ताज़ा खबर :
prev next

आईएमएस इंजीनियरिंग काॅलेज में एफडीपी शुरू, जुटे इंजीनियरिंग क्षेत्र के महारथी

नये मैटेरियल्स की खोज आज की जरूरत: हाइदेकाजू टोकोरो

आईएमएस इंजीनियरिंग काॅलेज में ‘नेक्स्ट जेनेरेशन मैटेरियल्स एण्ड मैन्युफैक्चरिंग’ विषय पर द्विसाप्ताहिक फैकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम का शुभारंभ बीते सोमवार को हुआ। जिसका उद्घाटन बतौर मुख्य अतिथि पधारे एमएमसी हार्ड मैटल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (मित्सबिशी मैटेरियल्स) के डेस्क मैनेजर हाइदेकाजू टोकोरो; आईआईटी दिल्ली के प्रो. डी रवि कुमार; आईआईटी रुड़की के प्रो. इंदरदीप सिंह; संस्थान के निदेशक प्रो. श्रवण मुखर्जी व मैकेनिकल इंजीनियरिंग के एचओडी डाॅ. वी.के. सैनी ने संयुक्त रूप से किया।

संस्थान के मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट द्वारा आयोजित एवं एआईसीटीई द्वारा प्रायोजित इस प्रोग्राम में विभिन्न इंजीनियरिंग काॅलेजों से आए विशेषज्ञों द्वारा 50 से अधिक प्रतिभागी शिक्षक लाभान्वित होंगे। मुख्य अतिथि श्री टोकोरो ने भविष्य में नये मैटेरियल्स की खोज पर जोर देते हुए उत्पादन लागत को कम करने व गुणवत्ता बरकरार रखने की चुनौती पर प्रकाश डाला।

गौरतलब है कि प्रोग्राम के प्रथम सप्ताह में प्रो. सुरेश नीलकंतन ‘एडवांस मैटेरियल फाॅकसिंग ऑन स्मार्ट एण्ड ऑक्सेटिक मैटेरियल’ एवं आईआईटी दिल्ली के प्रो. राजेश प्रसाद ‘फेज ट्रांसफार्मेशन इन मैटेलिक सिस्टम’ पर अपने विचार रखेंगे।जबकि प्रो. राजेश प्रसाद, आईआईटी, दिल्ली क्रमशःएवं ‘फेज ट्रांसफार्मेशन इन मैटेलिक सिस्टम’ के विषय पर अपने विचार व्यक्त करेंगे। वहीं, जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रो. अरशद नूर सिद्दीकी ‘फ्रिक्शन स्टिर वैल्डिंग’ और प्रो. कासिम मुर्तजा ‘एडवांस मशीनिंग’ पर अपना व्याख्यान देंगे।

दूसरे सप्ताह में आईआईटी रुड़की के डाॅ. ए.के. शर्मा, डाॅ. अक्षय द्विवेदी व आईआईटी दिल्ली के प्रो. जयन्त जैन ‘मैन्युफैक्चरिंग ऑफ मैटेरियल’ के तकनीकी पक्ष पर अपने विचारों व शोध कार्यों को प्रस्तुत करेंगे। कार्यक्रम के अन्तिम पड़ाव में सभी प्रतिभागियों के लिए इंडस्ट्रियल विजिट की व्यवस्था की गई है। 28 दिसंबर को एडराॅइटिक इनफॉर्मेशन सिस्टम प्रा. लि. के निदेशक स्वरूप चन्द के ‘एडीटिव मैन्युफैक्चरिंग’ पर लैक्चर से कार्यक्रम का समापन होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *