ताज़ा खबर :
prev next

CAA प्रलाप – दंगाइयों की लिस्ट से निकाले जाएंगे निर्दोषों के नाम, गाज़ियाबाद पुलिस ने गठित की एसआईटी

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष डॉ सौलत पाशा की अपील पर जिला प्रशासन ने एसआईटी का गठन कर बेगुनाह लोगों के नाम दर्ज मुकदमा वापस लेने का निर्णय भी लिया है।

आपको बता दें कि 20 दिसंबर को जुमे की नमाज के बाद जनपद के कई थाना क्षेत्रों में उपद्रव किया गया था । धारा 144 लगने के बावजूद कानून हाथ लेने का भी कार्य किया था। वहीं पत्थरबाजी कर शासन प्रशासन के कुछ लोग इस उपद्रव में घायल भी हुए थे। पुलिस ने आनन-फानन में काफी संख्या में ऐसे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनके फोटो भी चस्पा किए थे और जल्द ही बड़ी कार्रवाई करने का दावा भी किया था।

जिला प्रशासन की इस कार्रवाई से ऐसे हुड़दंग करने वालों में हड़कंप मच गया और काफी संख्या में ऐसे उपद्रवियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करते हुए उन्हें जेल भेजने का भी कार्य किया गया था। वहीं इस मामले में ऐसे कुछ बेकसूर लोगों के नाम भी दर्ज कर लिए गए थ जो मौके पर नही थे। इस मामले में भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष डॉक्टर सोलत पाशा ने एसपी देहात के समक्ष इस समस्या को रखते हुए बताया गया था कि कई इलाकों में देखा गया है जहां पर लोग मौजूद भी नहीं थे या अपने घर पर थे या अपने कार्य पर गए हुए थे। कुछ लोगों द्वारा पुलिस को बरगलाया गया और उन बेकसूर लोगों के मुकदमों में नाम दर्ज करा लिए गए। जिससे उन लोगों को काफी दिक्कतें पेश आ रही हैं। यही नहीं पुलिस उनके घर पर भी लगातार दबिश दे रही है जो मौके पर या धरना प्रदर्शन में मौजूद नहीं थे।

इस मामले में एसपी देहात नीरज कुमार जादौन से एक प्रार्थना की गई थी कि उपद्रव करने वालों के वीडियो में चिन्हित कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। बहरहाल एसएसपी सुधीर कुमार सिंह व डीएम अजय शंकर पांडे के निर्देश पर एसआईटी टीम का गठन किया गया। जिसमें दो इंस्पेक्टर व एक सब इंस्पेक्टर सहित अन्य लोग शामिल होंगे और वीडियो के आधार पर वह पूर्ण तरीके से जांच पड़ताल कर ऐसे लोगों को चिन्हित करेंगे जिन्होंने 20 दिसंबर को जुम्मे की नमाज के बाद उपद्रव मचाया था इस मामले की भी जांच पड़ताल कर ऐसे लोगों के नाम मुकदमें से वापस लिए जाएंगे।

एसपी देहात नीरज कुमार जादौन ने बताया कि एसआईटी टीम का गठन किया गया है। जिसमें तेजतर्रार पुलिस टीम के लोगों को लगाया गया है जो वीडियो के आधार पर ऐसे लोगों को चिन्हित करेंगे जिन्होंने उपद्रव मचाया था। जांच पड़ताल में बेकसूर लोगों के नाम यदि हैं तो वापस लिए जाएंगे। जिन लोगों ने कानून हाथ में लिया था उन्हें किसी भी हालत में छोड़ा नहीं जाएगा।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *