ताज़ा खबर :
prev next

फेफड़ों का कैंसर – बढ़ रहे हैं युवा मरीज, वायु प्रदूषण है कैंसर का प्रमुख कारण

गाज़ियाबाद समेत पूरे एनसीआर क्षेत्र के प्रदूषण के बारे में आए दिन आप कोई न कोई खबर पढ़ते होंगे। हाल ही में एक अध्ययन किया गया जिसमें पाया गया कि एनसीआर में ऐसे लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है, जो धूम्रपान नहीं करते हैं, फिर भी फेफड़ों के कैंसरका शिकार बन रहे हैं। हैरानी की बात ये है कि इनमें से 70% मरीज 50 साल से कम उम्र के हैं। इनमें भी ऐसे लोग बड़ी संख्या हैं, जो 30 साल से भी कम उम्र के युवा हैं और वो धूम्रपान भी नहीं करते। ये आंकड़े डराने वाले हैं, क्योंकि देश की राजधानी दिल्ली में पूरे भारत से लोग नौकरी, रोजगार, व्यापार की तलाश में आते हैं। ऐसे में लंबे समय तक प्रदूषित हवा में सांस लेते रहने के कारण उनमें फेफड़ों के कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

श्री जगन्नाथ धर्मार्थ कैंसर अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर और क्षेत्र के जाने माने कैंसर सर्जन डॉ. ऋषि कुमार गुप्ता बताते हैं कि ये अध्ययन ‘सर गंगा राम हॉस्पिटल’ और ‘लंग केयर फाउंडेशन’ के ‘सेंटर फॉर चेस्ट सर्जरी’ में किया गया है। इस अध्ययन में पिछले 30 सालों के दौरान होने वाली लंग कैंसर सर्जरी को आधार बनाया गया है। चिकित्सकों के मुताबिक वर्ष 1988 में जहां 10 में से सिर्फ 1 मरीज ऐसा होता था, जो धूम्रपान न करने के बावजूद फेफड़ों के कैंसर का शिकार होता था, तो 2018 में ये आंकड़ा 10 में से 5 मरीजों का हो गया है। यानी पहले की अपेक्षा धूम्रपान न करने वालों में फेफड़ों के कैंसर के मामले 50% तक बढ़ गए। इसी अध्ययन से पता चला है कि पिछले 3 सालों में पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं फेफड़ों के कैंसर का ज्यादा शिकार हुई हैं।

30 साल से कम उम्र के युवा हो रहे हैं शिकार

कुछ सालों पहले तक लंग कैंसर यानी फेफड़ों के कैंसर को ‘स्मोकर्स डिजीज’ (यानी ये रोग उन्हीं को होता है, जो धूम्रपान करते हैं) माना जाता था, मगर अब इस रोग का शिकार धूम्रपान न करने वाले लोग भी हो रहे हैं। मगर आंकड़े बताते हैं कि आजकल लंग कैंसर का इलाज कराने वाले 70% से ज्यादा मरीजों की उम्र 50 साल से भी कम है और उनमें से ज्यादातर धूम्रपान नहीं करते हैं। ऐसे मरीज जिन्हें 30 साल से कम उम्र में फेफड़ों की सर्जरी करवानी पड़ी, उनमें एक भी ऐसा व्यक्ति नहीं है, जो धूम्रपान करता हो। इस अध्ययन में उन लोगों को स्मोकर माना गया है, जो लोग पहले धूम्रपान करते थे, मगर अब छोड़ दिया है।

टीबी जैसे लक्षणों से न हों भ्रमित
डॉ. ऋषि बताते हैं कि ऐसा देखा गया है कि युवा लड़के-लड़कियों को शुरुआत में जब फेफड़ों से संबंधित बीमारी होती है, तो डॉक्टरों का ध्यान भी लंग कैंसर की तरफ नहीं जाता है। ऐसे में कई बार महीनों तक उन्हें टीबी की दवाएं दी जाती हैं और इलाज किया जाता है। जांच के बाद जब तक फेफड़ों के कैंसर का पता चलता है, तब तक कैंसर काफी फैल चुका होता है, जिससे इलाज पहले की अपेक्षा ज्यादा कठिन और खर्चीला हो जाता है।

फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती लक्षण

  • लगातार खांसी आना जो दो सप्ताह या इससे ज्यादा समय तक ठीक न हो।
  • खांसते समय मुंह से खून आना
  • खांसते समय मुंह से सीटी जैसी आवाज आना
  • सीने में हल्का या तेज दर्द
  • सांस लेते समय या खांसते समय सीने में दर्द महसूस होना
  • थोड़ा सा भी काम करते हुए थक जाना और सांस लेने में परेशानी महसूस करना
  • गले में खराश के कारण आवाज में बदलाव आ जाना
  • फेफड़ों के रोग जैसे- निमोनिया, ब्रॉन्काइटिस आदि जल्दी-जल्दी होना
  • इसके अलावा हर समय थकान, कमजोरी और आलस भी फेफड़ों के कैंसर का लक्षण हो सकता है।

आपको बता दें कि गाज़ियाबाद में दुहाई, मेरठ रोड स्थित श्री जगन्नाथ धर्मार्थ कैंसर अस्पताल दिल्ली, एनसीआर और पश्चिमी उत्तर प्रदेश का एकमात्र धर्मार्थ अस्पताल है जहां कैंसर की जांच और इलाज की सुविधाएं बेहद रियायती दरों पर उपलब्ध है। अस्पताल के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप 9818271932 या 997161695 पर संपर्क कर सकते हैं।

व्हाट्सएप के माध्यम से हमारी खबरें प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *