ताज़ा खबर :
prev next

आजम खान की बढ़ी मुश्किलें, राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने भी दर्ज कराया मुकदमा

समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खां के खिलाफ करीब डेढ़ साल पहले लखनऊ में दर्ज मुकदमा विवेचना के लिए अब रामपुर ट्रांसफर कर दिया गया है। रामपुर की अजीमनगर थाना पुलिस ने गोमतीनगर लखनऊ में निल पर दर्ज किए गए केस को अपने यहां क्राइम नंबर पर ले लिया है। आजम खां पर यह मुकदमा पूर्व सपा नेता व राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने कराया था।

शुक्रवार को अजीमनगर थाना पुलिस ने आजम खां के खिलाफ केस दर्ज किया है। यह केस पूर्व में लखनऊ में दर्ज किया गया था लेकिन घटना स्थल रामपुर का होने के कारण वहां निल पर पंजीकृत कर चिक दस्तंदाजी रामपुर भेजी गई थी। संबंधित मुकदमें में अमर सिंह का आरोप है कि आजम खान ने एक न्यूज चैनल इंटरव्यू के दौरान उनकी बेटियों की हत्या व तेजाब फेंकने की धमकी दी थी। सांप्रदायिक दंगा भड़काने का भी आरोप अमर सिंह ने लगाया है। मालूम हो कि सांसद अमर सिंह ने सितंबर 2018 में आजम खान पर एफआईआर दर्ज कराने के लिए दिल्ली से लखनऊ तक यात्रा निकाली थी। इसके बाद व्यक्तिगत रूप से गोमतीनगर थाने में उपस्थित होकर उन्होंने रिपोर्ट दर्ज करायी थी।

एफआईआर में आजम खां पर यह है आरोप

अमर सिंह का आरोप है कि पूर्व मंत्री आजम खान ने 23 अगस्त को एक न्यूज चैनल को इंटरव्यू दिया था। अमर सिंह के संबंध में एंकर के सवाल पर पूर्व मंत्री ने जवाब दिया कि जिस दिन अमर सिंह और इन जैसों को, इनके परिवार सहित मार दिया जाएगा और इनकी बहू बेटियों को तेजाब से गलाया जाएगा, तभी मुज्जफरनगर और गुजरात जैसे दंगे नहीं होंगे। इस दौरान आजम खान ने खुले तौर पर सांसद अमर सिंह व उनकी बेटियों व अन्य हिन्दुओं को जान से मारने की धमकी दी। अमर सिंह ने आरोप लगाया कि आजम पूरे देश में दंगा करवाना चाहते थे।

सबूत के तौर पर पुलिस को सौंपी सीडी

अमर सिंह ने केस दर्ज कराने के बाद पुलिस को एक सीडी भी सौंपी थी। बताया जा रहा है कि सीडी में आजम खान द्वारा न्यूज चैनल में दिए गए इंटरव्यू की रिकार्डिंग है।

रामपुर में पीसी के दौरान हुआ था हंगामा
31 अगस्त 2018 को अमर सिंह ने रामपुर में आजम के खिलाफ प्रेस कांफ्रेंस की थी। इस दौरान आजम के इंटरब्यू की संबंधित सीडी भी दिखायी गई थी। जिसके बाद आजम पक्ष और विपक्ष के दो लोगों के बीच हाथापाई हुई थी।

रामपुर के पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम ने बताया कि लखनऊ के गोमतीनगर थाने में करीब डेढ़ साल पहले रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। विवेचना भी लखनऊ पुलिस कर रही थी। अब मुकदमा रामपुर ट्रांसफर किया गया है, जिसे अजीमनगर थाने में दर्ज कर क्राइम नंबर दिया गया है। घटना स्थल जौहर यूनिवर्सिटी है। अब आगे की विवेचना रामपुर पुलिस द्वारा की जाएगी।


हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *