ताज़ा खबर :
prev next

प्रशांत भूषण ने मांगी योग गुरु रामदेव से माफी, कहा गलती से बताया डिफॉल्टर

देश के मशहूर वकील प्रशांत भूषण ने योग गुरु बाबा रामदेव से माफी मांगी है। उन्होंने उस ट्वीट को लेकर माफी मांगी है जिसमें उन्होंने डिफॉल्टर और कर्जमाफी को लेकर रामदेव का जिक्र किया था। उन्होंने कहा कि मैंने पहले एक पोस्टर ट्वीट किया था जिसमें उनका उल्लेख एक डिफॉल्टर के रूप में किया गया था, जिसका लोन माफ किया गया है।

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘बाबा रामदेव से माफी मांगता हूं। मैंने पहले एक पोस्टर ट्वीट किया था, जिसमें उनका उल्लेख एक डिफॉल्टर के रूप में किया गया था, जिसका लोन माफ किया गया है। पोस्टर एक पोर्टल की स्टोरी पर आधारित है, जिसमें ‘रूचि सोया’ को डिफॉल्टर के रूप में उल्लेख किया गया है। बाद में मुझे पता चलता है कि वह (बाबा रामदेव) केवल इसे खरीदने की कोशिश कर रहे हैं।’

आपको बता दें कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा एक आरटीआई के जवाब में बैंकों के विलफुल डिफाल्टर्स की जो सूची दी गई है, उनके खिलाफ सरकार पहले ही कार्रवाई शुरू कर चुकी और जांच जारी है। आरबीआई की शीर्ष 50 विलफुल डिफाल्टर्स की सूची में शामिल कई कंपनियों के खिलाफ एफआईआर दाखिल किए जाने सहित प्रवर्तन कार्रवाई शुरू हो चुकी है।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जैसी एजेंसियों ने गीतांजलि जेम्स और आरईआई एग्रो की संपत्तियों को अटैच कर लिया है, जबकि विनसम डायमंड्स के जतिन मेहता के खिलाफ एक रेड कार्नर नोटिस जारी किया जा चुका है। इसके अलावा गीतांजलि जेम्स के मेहुल चोकसी के खिलाफ प्रत्यर्पण की कार्यवाही शुरू की जा चुकी है।

इन डिफाल्टर्स की सूची में मेहुल चोकसी की कंपनी गीतांजलि जेम्स लिमिटेड शीर्ष पर है, जिस पर 5,492 करोड़ रुपए का कर्ज है। इसके बाद दूसरे स्थान पर आरईआई एग्रो लिमिटेड 4,314 करोड़ रुपए कर्ज के साथ और विनसम डायमंड एंड ज्वेलरी 4,076 करोड़ रुपए कर्ज के साथ मौजूद है।

आरबीआई ने कहा है कि बैंकों ने 50 विलफुल डिफाल्टर्स पर बकाया 68,607 करोड़ रुपए को बट्टे खाते में डाल दिया है। इसके बाद 200 करोड़ रुपए की श्रेणी में कानपुर की कंपनी रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड है, जोकि जाने माने कोठारी समूह की कंपनी है, जिस पर 2850 करोड़ रुपए का कर्ज है।

इसके अलावा, पंजाब की कुडोस केमी (2,326 करोड़ रुपए), बाबा रामदेव और बालकृष्ण की कंपनी समूह इंदौर स्थित रुचि सोया इंडस्ट्रीज (2,212 करोड़ रुपए) और ग्वालियर की जूम डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड (2,012 करोड़ रुपए) जैसी कंपनियों के नाम इस सूची में शामिल हैं।


हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *