ताज़ा खबर :
prev next

विशाखापट्टनम – जहरीली गैस से हुए 5 गाँव प्रभावित, अब तक हो चुकी है 11 व्यक्तियों की मौत

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीकेज की चपेट में आकर 11 लोगों की मौत हो गई है। जबकि आस-पड़ोस के कई गांव प्रभावित हैं। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण/एनडीएमए ने हादसे की ब्रीफिंग देते हुए कहा कि शुरुआती जांच रिपोर्ट में पता चला कि गैस वॉल्व में दिक्कत के कारण हादसा हुआ। गुरुवार सुबह 2.30 बजे गैस वॉल्व खराब हो गया और जहरीली गैस लीक होने लगी। फिलहाल, यह शुरुआती जांच रिपोर्ट के आधार पर है। अभी अधिकारियों की पूरी टीम मामले की जांच करेगी।

एनडीएमए ने कहा कि इस जहरीली गैस के कारण फैक्ट्री के तीन किलोमीटर के इलाके प्रभावित हैं। फिलहाल, पांच गांव खाली करा दिए गए हैं। इस बीच सीएम जगन मोहन रेड्डी खुद विशाखापट्टनम पहुंच गए हैं। इस हादसे में अब तक 11 लोगों की मौत हो चुकी है। 300 से ज्यादा लोग अस्पताल में भर्ती हैं। इनमें से 80 लोगों को वेंटिलेटर पर रखा गया है।

जगन मोहन रेड्डी ने किया मुआवजे का ऐलान
आंध्र प्रदेश के मुख्‍यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने किंग जॉर्ज हॉस्पिटल में एडमिट पीड़ितों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने मुआवजे का ऐलान किया। हादसे के कारण जान गंवाने पर लोगों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। इसके साथ ही पीड़ितों को 10-10 लाख रुपये और डिस्चार्ज किए जा चुके लोगों को एक-एक लाख रुपये की सहायता राशि मिलेगी।
जगन मोहन सरकार ने गैस लीक मामले की जांच के लिए 5 सदस्यीय कमेटी गठित की है। जगन मोहन रेड्डी ने हादसे पर कहा क‍ि एलजी पॉलिमर्स फैक्‍ट्री पर होगी कार्रवाई। गैस लीक हादसे में हाई लेबल जांच के आदेश दिए गए हैं।

विशाखापट्टनम में गैस रिसाव से 11 लोगों की मौत, 1000 लोग प्रभावित

केंद्र ने गुरुवार को कहा कि आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक रसायन संयंत्र में गैस रिसाव होने से 11 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 1000 अन्य प्रभावित हुए हैं। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक एस एन प्रधान ने कहा कि संयंत्र से रिसाव अब बहुत कम हो गया है लेकिन एनडीआरएफ कर्मी इसे पूरी तरह से बंद करने तक मौके पर मौजूद रहेंगे।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि गैस रिसाव से अभी तक 11 लोगों की मौत हुई है। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य कमल किशोर ने कहा कि संयंत्र के आसपास के इलाकों में रह रहे करीब 1,000 लोग गैस रिसाव से प्रभावित हुए हैं। प्रधान ने कहा कि संयंत्र के तीन किमी के दायरे से 200 से 250 परिवारों के लगभग 500 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।


हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *