ताज़ा खबर :
prev next

ब्रिटेन का सबसे वजनी इंसान:317 किलो के जैसन को घर से निकालने के लिए क्रेन का सहारा लिया गया, 7 घंटे की मशक्कत के बाद निकाला गया – 5 साल से बाहर नहीं निकला

  • जंक फूड के कारण वजन इतना बढ़ा कि 1 इंच हिल तक नहीं पाते थे
  • जैसन ने कहा, मैंने खुद को मरने के लिए छोड़ दिया था क्योंकि जीवन में कुछ नहीं बचा

ब्रिटेन के सबसे वजनी इंसान को घर की खिड़की तोड़कर क्रेन से निकाला गया। 30 साल के जैसन होल्टन का वजन 317 किलो है। अधिक वजन के कारण वह पिछले 5 साल से घर से बाहर नहीं निकले। इमरजेंसी में 7 घंटे की मशक्कत के बाद उन्हें क्रेन से बाहर निकाला गया।

जंक फूड की लत ने बढ़ाया मोटापा
ब्रिटेन में सरे के रहने वाले जैसन को जंक फूड काफी पसंद है। वह चॉकलेट,फिजी ड्रिंक, चिप्स और सैंडविच खाते है। रोजाना इससे उन्हें करीब 10 हजार कैलोरी मिलती है। कई सालों से ले रहे जंक फूड के कारण वजन इतना अधिक हो गया कि वह बिना किसी मदद के एक इंच हिल तक नहीं पाते थे।

खुद को मरने के लिए छोड़ दिया था

घर से निकालने के बाद उन्हें इलाज के लिए हॉस्पिटल ले जाया गया। हॉस्पिटल में उन्होंने कहा, मैं अपने घर में किसी से मदद न मांगकर काफी खुश था। मैंने खुद को मरने के लिए छोड़ दिया था ताकि हार्ट अपना काम करना बंद कर दे। मुझे अहसास हुआ है कि मेरे जीवन में कुछ भी नहीं बचा है।

6 साल में पहली बार ताजी हवा में सांस ली
जेसन ने ही इमरजेंसी सर्विस को कॉल किया और घर से निकालने के लिए कहा। जब घर से उन्हें निकालने में मुश्किलें आईं तो खिड़की को तोड़ा गया। जेसन कहते हैं, पिछले 6 साल में यह पहला मौका था जब मैंने ताजी हवा में सांस ली। मुझे कोडीन ड्रग दी गई थी ताकि क्रेन से उठाने पर दर्द का अहसास न हो।

जेसन ने कहा, क्रेन से निकाले जाने पर काफी खतरा था लेकिन मैंने रिस्क लिया क्योंकि मैं अपने फ्लैट में नहीं मरना चाहता था।

लिम्फोडिमा से जूझ रहे हैं जैसन

जैसन लिम्फोडिमा से भी जूझ रहे हैं। ऐसे मामलों में पैरों में इतनी ज्यादा सूजन आ जाती है कि पूरे शरीर पर इसका गलत असर पड़ता है। जेसन की 52 साल की मां लीजा कहती हैं, मैं डरती हूं कि कहीं में अपने इकलौते बच्चे को खो न दूं। डॉक्टर का कहना है, जैसन 5 साल से ज्यादा जिंदा नहीं रहेगा। हार्ट अटैक से उसकी जिंदगी खत्म हो सकती है।

2014 से मोटापा बढ़ना शुरू हुआ
जैसन में मोटापा 2014 से तब बढ़ना शुरू हुआ, जब होम डिलीवरी फूड सर्विस से खाना लेना शुरू किया। वह रोजाना 2,886 रुपए खाने पर खर्च करते हैं। सालभर में खाने का कुल खर्च करीब 9,61,876 रुपए तक पहुंच जाता है। वह कहते हैं, पेमेंट के लिए मैं डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करता था। कबाब, चिप्स, चाइनीज, ऑरेंज जूस और डाइट कोक ऑर्डर करता था।

सूजन के साथ मोटापा और हाई ब्लड प्रेशर से जूझ रहे

लीजा कहती हैं, जरूरत से ज्यादा खाना एक एडिक्शन की तरह है। जैसल की हालत और खराब हो रही है क्योंकि शरीर में पानी की मात्रा अधिक होने से सूजन है और ब्लड प्रेशर की समस्या से भी जूझ रहा है। मैं उसकी हालत देखकर तनाव में हूं।

वह कहती हैं, महामारी के कारण घर में उसकी देखरेख करने वाले लोग भी नहीं आ रहे। जैसन सरकार से आग्रह कर रहा है कि देश की सेहत पर ध्यान दिया जाए। टेकअवे फूड सर्विस की होम डिलीवरी करने की संख्या कम की जाए।साभार-दैनिक भास्कर

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *