ताज़ा खबर :
prev next

अभी नहीं हटाई जाएंगी दिल्ली में रेल पटरियों के किनारे की झुग्गी बस्तियां

राष्ट्रीय राजधानी में रेल पटरियों के किनारे बसी लगभग 48,000 झुग्गी-बस्तियों को अभी नहीं हटाया जाएगा। केंद्र सरकार ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया कि इस मामले में उसे अंतिम निर्णय लेने के लिए और समय चाहिए। कोर्ट अब इस पर चार हफ्ते बाद सुनवाई करेगा। केंद्र सरकार ने पीठ को भरोसा दिलाया कि इस दौरान अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई नहीं की जाएगी।

चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष केंद्र सरकार की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि इस मामले को लेकर विचार-विमर्श जारी है। इस पर फैसला लेने के लिए सरकार को और वक्त चाहिए। पीठ ने उनके आग्रह को स्वीकार करते हुए सुनवाई चार हफ्ते के लिए टाल दी।

गत सितंबर में सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि शहरी विकास मंत्रालय, दिल्ली सरकार और रेलवे के बीच बैठक कर चार हफ्ते के भीतर इसका समाधान निकालने का प्रयास किया जाएगा। शीर्ष अदालत कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री अजय माकन की उस याचिका पर सुनवाई कर रही है जिसमें 31 अगस्त के फैसले को चुनौती दी गई है।

दरअसल, 31 अगस्त को जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने दिल्ली में रेल पटरियों के किनारे बसी झुग्गियों को हटाने का आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि इन अतिक्रमणों को हटाने से रोकने के लिए किसी राजनीतिक हस्तक्षेप की अनुमति नहीं दी जाएगी। कोर्ट ने तीन महीने में अतिक्रमण हटाने को कहा था।

पिछली सुनवाई पर माकन की ओर से पेश वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट से इस मामले में यथास्थिति बरकरार रखने की गुहार लगाई थी, लेकिन कोर्ट ने इनकार कर दिया था। कोर्ट ने कहा था कि जब केंद्र सरकार की ओर से यह आश्वासन दिया जा रहा है कि झुग्गियों पर कार्रवाई नहीं होगी तो यथास्थिति का आदेश पारित करने का कोई औचित्य नहीं है।साभार-अमर उजाला

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *