ताज़ा खबर :
prev next

भारत में हर 10 में से 5 महिलाएं और 3 पुरुष यूरिन इंफेक्शन के शिकार, जानिए क्या हैं लक्षण और इलाज

इंफेक्शन से यूरिन पाथ में घाव हो जाते हैं, जो कैंसर की वजह भी बन सकता है

यदि आपको भी यूरिन इंफेक्शन है, तो सावधान हो जाइए। बहुत हद तक संभव है कि आपको इसके बारे में पता भी न हो, लेकिन ये इंफेक्शन बहुत खतरनाक है। हाल ही में इंडियन हेल्थ जर्नल ने इसे लेकर स्टडी की। इसमें पाया कि दुनिया में यूरिन ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTI) के 15 करोड़ मामले हर साल सामने आ रहे हैं।

दुनिया में इस इंफेक्शन के चलते लोगों पर करीब 45 हजार करोड़ रुपए का आर्थिक भार पड़ रहा है। दुनिया की आबादी की करीब 40% महिलाएं और 12% पुरुष, जीवन में कम से कम एक बार इस इंफेक्शन का शिकार हो रहे हैं। भारत में 10 में से 5 महिलाएं और 3 पुरुष यूरिन इंफेक्शन के शिकार हैं।

  • क्या है यूरिन इंफेक्शन?

यूरिन पाथ समेत यूरिन सिस्टम के कई हिस्से डैमेज हो जाते हैं

लखनऊ में कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर शिखा पांडेय कहती हैं कि यूरिन इंफेक्शन दरअसल यूरिन सिस्टम में होने वाला संक्रमण है। इसमें यूरिन पाथ समेत यूरिन सिस्टम के कई हिस्से डैमेज हो जाते हैं। अनियमित दिनचर्या, खान-पान में लापरवाही इसकी सबसे बड़ी वजह है।

यूरिन इंफेक्शन से पीड़ित व्यक्ति को यूरिन पास करते वक्त जलन महसूस होती है। यदि सही समय पर इलाज न कराया जाए, तो यह प्रोस्टेट कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की वजह भी बन सकता है।

दुनिया में इस इंफेक्शन के बढ़ने की बड़ी वजह यह है कि लोगों को इसके बारे में पता नहीं चलता है। इस बारे में लोग बात भी नहीं करते और जागरूकता की भी कमी है।

यूरिन इंफेक्शन के 5 लक्षण-

1- बार-बार बाथरूम जाना- यह यूरिन इंफेक्शन का सबसे अहम लक्षण है, जिसमें व्यक्ति को बार-बार बाथरूम जाने की जरूरत पड़ती है। आमतौर पर लोग इस बात को गंभीरता से नहीं लेते, लेकिन इस लापरवाही के चलते संक्रमण बढ़ सकता है।

2- यूरिन पास करते समय जलन- इस इंफेक्शन के बाद यूरिन पाथ में घाव हो जाते हैं, हालांकि ये घाव माइनर होते हैं, लेकिन इनके चलते जलन होने लगती है। अगर आपको ऐसा लगातार महसूस हो रहा है, तो बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करें।

3- यूरिन में खून का आना- कई बार ऐसा भी देखा गया है कि यूरिन इंफेक्शन होने पर कुछ लोगों के यूरिन में खून आता है। ऐसा तब होता है, जब यूरिन पाथ में होने वाले घाव बड़े हो जाते हैं। यूरिन सिस्टम का ज्यादा डैमेज होना भी ब्लीडिंग की वजह है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक इस स्टेज में लापरवाही बहुत भारी पड़ सकती है।

4- पेट के निचले हिस्से में दर्द- कई बार यूरिन सिस्टम डैमेज होने के चलते पेट के निचले हिस्से में लगातार दर्द होता है। ऐसे व्यक्तियों को तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

5- महिलाओं में पैल्विक दर्द- यदि किसी महिला को पैल्विक दर्द होता है, तो इसकी वजह यूरिन इंफेक्शन हो सकता है। महिलाओं को इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

न्यूट्रिएंट की कमी यूरिन इंफेक्शन की सबसे बड़ी वजह

भोपाल में डाइटीशियन और फिटनेस एक्सपर्ट डॉक्टर निधि पांडे कहती हैं कि इंफेक्टेड खाना-पीना और विटामिन की कमी यूरिन इंफेक्शन की खास वजह है। विटामिन-B जैसे न्यूट्रिएंट की कमी के चलते इम्युनिटी वीक हो जाती है। इसके चलते शरीर इंफेक्शन फैलाने वाले वैक्टीरिया से नहीं लड़ पाता, जो यूरिन इंफेक्शन का कारण बनता है।

ज्यादा एंटीबायोटिक्स लेने से कमजोर हो जाती है इम्युनिटी

डॉ. शिखा और डॉ. निधि कहती हैं कि यूरिन इंफेक्शन होने पर लोग ज्यादा एंटीबायोटिक्स लेने लगते हैं। आराम होते ही एंटीबायोटिक्स लेना बंद भी कर देते हैं। ज्यादातर लोग प्रॉपर इलाज को इग्नोर करते हैं। बार-बार एंटीबायोटिक लेने से वैक्टीरिया इसमें सरवाइव करना सीख जाते हैं, साथ ही इम्युनिटी भी कमजोर हो जाती है। इसके चलते यूरिन इंफेक्शन बार-बार होने लगता है।

बॉडी ज्यादा डिहाइड्रेट न होने दें

अगर आपकी बॉडी लगातार डिहाइड्रेट रहती है, तो इसका मतलब है कि आप कम पानी पी रहे हैं। डिहाइड्रेट होने से यूरिन का कलर बदल जाता है। डॉ. शिखा कहती हैं कि बॉडी जितनी डिहाइड्रेट होगी, यूरिन का कलर उतना ही पीला होगा। ज्यादा डिहाइड्रेट होना यूरिन इंफेक्शन की वजह बन सकता है। इसलिए 24 घंटे में कम से कम 4 से 5 लीटर पानी जरूर पिएं।साभार-दैनिक भास्कर

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *