ताज़ा खबर :
prev next

गाजियाबाद,शस्त्र लाइसेंस के आवेदनों की जांच में नहीं होगा फर्जीवाड़ा

गाजियाबाद। जिले में शस्त्र लाइसेंस आवेदनों की जांच में अब पुलिस व प्रशासनिक कर्मचारी खेल नहीं कर सकेंगे। न तो वह पाजिटिव रिपोर्ट लगाने के लिए पैसे की मांग कर सकेंगे और न ही पैसा न मिलने पर उल्टी रिपोर्ट लगा सकेंगे। आवेदनों की रिपोर्ट में चल रहे धंधे को समाप्त करने के लिए जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने योजना तैयार कर ली है। इसके तहत अब प्रशासनिक कर्मियों को आवेदनों के संबंध में डाटा तैयार करना होगा। इस डाटा में आवेदक की जानकारी समेत उसका मोबाइल नंबर दर्ज किया जाएगा। जिलाधिकारी औचक किसी भी नंबर पर फोन कर आवेदक से जानकारी प्राप्त करेंगे कि उन्हें रिपोर्ट लगवाने में किसी प्रकार की परेशानी तो नहीं हुई या उनसे किसी प्रकार का पैसा तो नहीं मांगा गया। इस संबंध में जिलाधिकारी ने निर्देश जारी कर दिए हैं।

बता दें कि जिले में शस्त्र लाइसेंस आवेदनों की जांच में बड़ा खेल चल रहा है। लोग शस्त्र लाइसेंस बनवाने के लिए किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं। पूर्व में जिलाधिकारी ने आपरेशन क्लीन के तहत शस्त्र लाइसेंस के आवेदनों की जांच में बड़ा घोटाला पकड़ा था। पुलिस-प्रशासन ने आवेदनों की जांच के दौरान ऐसे लोगों को लाइसेंस देने की संस्तुति कर दी जो इसके लिए अपात्र थे और उन्हें लाइसेंस की आवश्यकता नहीं थी। जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय ने आवेदनों की औचक जांच कराई तो इस तरह के 17 मामले पकड़ में आए थे। इसके बाद जिलाधिकारी ने यह योजना तैयार की है।

इस योजना के तहत एक प्रारूप तैयार कराया जा रहा है। इसमें तहसीलवार कर्मचारियों को शस्त्र लाइसेंस के संबंध में विभिन्न प्रकार की जांच रिपोर्ट की सूची तैयार करनी होगी। इसमें आवेदक की जानकारी के साथ उसका मोबाइल नंबर भी दर्ज कर उन्हें सौंपना होगा। वह किसी भी आवेदक को अचानक फोन कर उनसे जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। यदि आवेदक को किसी भी प्रकार से परेशान किया गया, या उससे अनुचित मांग होनी पाई गई तो संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। यह है लाइसेंस आवेदन की जांच प्रक्रिया

आवेदक के लाइसेंस का फार्म कलक्ट्रेट में जमा करने के बाद एक जांच पुलिस को जाती है, जबकि दूसरी जांच तहसील को जाती है। पुलिस विभाग में संबंधित चौकी, थाना, सीओ, एसपी सिटी, डीसीआरबी, एलआइयू से जांच होने के बाद एसएसपी के माध्यम से प्रशासन को रिपोर्ट भेजी जाती है। इसी प्रकार लेखपाल, अमीन, रजिस्ट्रार कानूगो, नायाब तहसीलदार, तहसीलदार से रिपोर्ट तैयार होकर एसडीएम के माध्यम से जिलाधिकारी के पास पहुंचती है। जांच रिपोर्ट लगाने में मोटा खेल चलता है। इस खेल को समाप्त करने के लिए जिलाधिकारी ने यह योजना तैयार की है।

ये है जिले में आवेदनों की स्थिति

विरासत के मामले – 12

ट्रांसफर के प्रकरण – 47

बाहरी लाइसेंस दर्ज होने के प्रकरण – 430

नए लाइसेंस के लिए आवेदन – 3500

सीमा विस्तार के मामले – 15

पूर्व में शस्त्र लाइसेंस के आवेदन के संबंध में शिकायतें मिली थीं। इसके साथ ही डेढ़ वर्ष पहले आपरेशन क्लीन में अपात्रों को लाइसेंस की संस्तुति के मामले भी पकड़े गए थे। इसके बाद ही यह योजना तैयार की गई है। इस योजना के बाद शस्त्र लाइसेंस आवेदनों की जांच में पारदर्शिता आएगी और भ्रष्टाचार समाप्त होगा।-अजय शंकर पांडेय, जिलाधिकारी – साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *