ताज़ा खबर :
prev next

अंगूठा बताएगा बंदी की पहचान, अंगुली से छूकर होगी कॉल

ग्रेटर नोएडा । जेल में बंदी का अंगूठा अब उसकी विस्तृत पहचान बताएगा। नई व्यवस्था में जेल में बंदी टेलीफोन बूथ का संचालन होगा। आधुनिक मशीन युक्त पीसीओ में बंदी द्वारा अंगूठा (बायोमीट्रिक) लगाते ही उसकी विस्तृत जानकारी स्क्रीन पर आ जाएगी। बंदी द्वारा दर्ज कराए दो नंबरों में से किसी एक फोन नंबर को अंगुली से छूते ही संबंधित को फोन काल लग जाएगी। नए नियम के तहत अब बंदी सप्ताह में पांच बार पांच मिनट तक स्वजन से फोन पर बात कर सकेंगे। दोनों की बातचीत मशीन में रिकार्ड भी होगी, जिसे जरूरत पर जेल प्रबंधन सुन सकता है।

पिछले करीब एक वर्ष से कोरोना संक्रमण का खतरा बना है। इससे बंदियों की उनके स्वजन से मुलाकात की प्रक्रिया बंद है। बंदियों की सुविधा के लिए अब तक सप्ताह में दो बार फोन पर उनकी स्वजन से पांच मिनट तक बात कराई जाती थी। पायलट प्रोजेक्ट के तहत प्रदेश की चार जेल लखनऊ, आगरा, गाजियाबाद व नैनी (प्रयागराज) में प्रिजन इनमेट कालिग सिस्टम (पीआइसीएस) की शुरुआत हुई थी। इसके सफल होने पर प्रदेश की अन्य जेलों में इसे लागू किया जा रहा है। जिला जेल गौतमबुद्ध नगर में यह व्यवस्था इसी माह शुरू होगी। निजी एजेंसी करेगी संचालन

पीआइसीएस का संचालन निजी एजेंसी करेगी। सिस्टम में सभी बंदियों का डाटा फीड होगा। मशीन से ये पता चल जाएगा कि बंदी सप्ताह में कितनी बार काल कर चुका है और बात करने को उसके पास कितनी अवधि शेष है। अगर उसने पांच बार से कम काल की होगी, तो उसे स्वजन से बात करने का मौका मिलेगा। पांच मिनट का तय समय पूरा होते ही काल खुद कट जाएगी। काल दर एक रुपया प्रति मिनट होगा। यह राशि बंदियों को देनी होगी। जेल प्रबंधन को मिलेगी राहत

कोरोनाकाल में अब तक बंदियों की स्वजन से बात जेल में लगे बेसिक फोन से कराई जाती थी। इसमें जेल प्रशासन को विशेष सतर्कता बरतनी पड़ती थी। बात के दौरान बंदी कोई षड्यंत्र तो नहीं रच रहा है, यह जानने के लिए एक कर्मचारी उनकी बातों को सुनता रहता था। पांच मिनट की तय अवधि का ध्यान रखने के साथ ही कर्मचारी को यह रिकार्ड भी व्यवस्थित करना पड़ता था कि बंदी की सप्ताह में दो बार बात हुई है या नहीं।

वर्जन..

एजेंसी के द्वारा बंदियों का डाटा फीड किया जा रहा है। उन्हीं के द्वारा विस्तृत रिकार्ड रखा जाएगा। रिकार्ड की जेल कर्मचारी समय-समय पर जांच करेंगे। भीमसैन मुकुंद, जेल अधीक्षक, गौतमबुद्ध नगर – साभार दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *