ताज़ा खबर :
prev next

कभी गूंजती थी गोलियों की तड़तड़ाहट, आज महकते हैं केसर के फूल, गया के इस गांव की कहानी तो जानिए

पढ़िए दैनिक जागरण की ये खबर…

गया जिले के बाराचट्टी प्रखंड के चांदो गांव के अनुसूचित जाति परिवार के कमल देव मांझी ने केसर की खेती कर गांव को खुशबू से भर दिया है। कभी जहां गोलियों की तड़तड़ाहट से बारूद की गंध बिखरी रहती थी आज वहां केसर का सुगंध बिखर रहा है।

बाराचट्टी (गया)। केसर के गंध लेके पुरबा चलल रहे….। गीत की इस पंक्ति से केसर की खुशबू का अंदाजा सहज लगाया जा सकता है। अब केसर का यह गंध गया में भी बिखरने लगा है।  बाराचट्टी प्रखंड अंतर्गत दिवनिया पंचायत के चांदो गांव में अनुसूचित जाति परिवार से आने वाले कमल देव मांझी ने केसर की खेती कर एक नई शुरुआत की है। केसर के फूलों को देख राहगीर भी रुक जाते हैं। दूसरे जगह के किसान भी यहां पहुंचकर इसकी खेती की जानकारी लेने लगे हैं।  एक समय ऐसा था जब चांदो के जंगल में दिन हो या रात प्रतिबंधित नक्सली संगठन एवं पुलिस के बीच में जमकर मुठभेड़ होती थी। अगल-बगल के गांवों के लोग अपने घरों में दुबक जाते थे। लेकिन कमल देव मांझी ने केसर की खेती कर उसके खूबसूरत फूलों की खुशबू से जंगल को गुलजार बना दिया है।

ये भी पढ़ें :- Bharat Bandh Today: यूपी गेट की सभी लेन शाम 6 बजे तक बंद, सोनीपत में कुंडली केएमपी के नीचे का रास्ता बंद

चतरा के एक किसान से मिली खेती की प्रेरणा

कमल देव मांझी बताते हैं कि केसर की खेती से हमलोगों का कोई वास्‍ता नहीं था। इसके बारे में जानते तक नहीं थे। लेकिन संयोग से एक बार  झारखंड के चतरा जिले में अपने एक स्वजन के यहां गए हुए थे और केसर की खेती देखी। रिश्‍तेदार से बातचीत की। उन्होंने कहा कि यह पलवल केसर है। इसकी खेती आप भी कीजिए। कमलदेव को उस किसान ने केसर का बीज उपलब्ध कराया। उसे लेकर अपने घर पहुंचे और इसकी खेती शुरू की। आज नतीजा सामने है।

ढाई कट्ठा जमीन में कर रहे केसर की खेती

कमल देव बताते हैं कि अपने घर के पीछे ढाई कट्ठा जमीन पर केसर की खेती किए हैं। बहुत अच्छी खेती हुई है उसके फूल को तोड़ कर घर में सुखाते हैं एवं उसे एक पैकेट में भरकर रख रहे हैं। परंतु दुख की बात यह है कि केसर का बाजार भाव क्या है इसकी जानकारी ही नहीं है। फिलहाल केसर के फूलों को तोड़कर कमल देव और उनकी पत्‍नी जयंती देवी सहेज कर रख रहे हैं कि आने वाले दिनों में इसे बिक्री कर दो पैसे की आमदनी कर पाएंगे।

(केसर के फूलों को देखते कमलदेव मांझी।)

कई मामलों में फायदेमंद है केसर

केसर पेट संबंधी बीमारियों के इलाज में बहुत फायदेमंद होता है। पेट में मरोड़, गैस, एसिडिटी आदि बीमारियों से परेशान रहने पर केसर से राहत मिलती है। इसका इस्तेमाल खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए भी किया जाता है केसर का उपयोग ब्यूटी प्रोडक्शन और मेडिसिन में भी लोग करते हैं। इसके सेहतमंद फायदों के बारे में ज्यादातर लोगों को पता नहीं है। साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

 हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *