ताज़ा खबर :
prev next

जंगली फौजी को गिरफ्तार करने पहुंची थी पुलिस, भीड़ का फायदा उठाकर भागा, सोशल मीडिया पर कहा थैंक्स

पढ़िए दैनिक जागरण की ये खबर…

अक्षय हत्याकांड के आरोपित यदुवेंद्र उर्फ जंगली फौजी को गिरफ्तार करने गांव सुराना पहुंची पुलिस को लापरवाही भारी पड़ सकती थी। यदुवेंद्र पुलिस की आंखों में धूल झोंकने में सफल रहा। भागने के बाद उसने फेसबुक पर पोस्ट डालकर ग्रामीणों के सहयोग के लिए आभार जताया।

मुरादनगर। अक्षय हत्याकांड के आरोपित यदुवेंद्र उर्फ जंगली फौजी को गिरफ्तार करने गांव सुराना पहुंची पुलिस को लापरवाही भारी पड़ सकती थी। भीड़ का फायदा उठा यदुवेंद्र पुलिस की आंखों में धूल झोंकने में सफल रहा। भागने के बाद उसने फेसबुक पर पोस्ट डालकर ग्रामीणों के सहयोग के लिए आभार जताया व पुलिस को चुनौती दे डाली।

पिछले वर्ष अगस्त में मोदीनगर के तिबड़ा रोड स्थित कृष्णाकुंज कालोनी में अक्षय सांगवान की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। मामले में दो महिलाओं की गिरफ्तारी भी हुई थी। कई आरोपितों ने पुलिस को चकमा देकर कोर्ट में सरेंडर किया था। छानबीन में सुराना निवासी जंगली फौजी की भूमिका भी सामने आई। वह सेना में कार्यरत है।

पुलिस ने युदवेंद्र को अक्षय सांगवान की हत्या के आरोपितों को हथियार मुहैया कराने व साजिश रचने की धाराओं के साथ आरोपित बनाया है। गिरफ्तारी में विफल रहने पर पुलिस कोर्ट के आदेश पर उसके खिलाफ कुर्की की कार्रवाई भी कर चुकी है।

शाम को पुलिस बिना पूर्व तैयारी के ही पहुंच गई। यदुवेंद्र को समर्थकों ने बचाकर निकाल दिया और नारेबाजी शुरू कर दी। खुद को घिरा देख पुलिस वहां से चली गई। एक घंटे बाद भारी बल के साथ पुलिस अधिकारी वापस पहुंचे। यदुवेंद्र के नहीं मिलने पर पुलिस रेनू यादव को हिरासत में लेकर साथ ले गई। तब रेनू के समर्थन में बड़ी संख्या में ग्रामीण चुंगी नंबर तीन पर पहुंच गए।

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें।हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *