ताज़ा खबर :
prev next

भारत को कोरोना के लिए 100 मिलियन डॉलर मदद की पूरी श्रृंखला भेज रहा अमेरिका, आज शाम पहुंचेगी पहली खेप

पढ़िए दैनिक जागरण की ये खबर…

भारत में कोरोना के बिगड़ते हालात के बीच अमेरिका मदद के लिए आगे आया है। अमेरिका के व्हाइट हाउस ने कहा है कि आने वाले दिनों में अमेरिका से 100 मिलियन डॉलर मदद की एक पूरी श्रृंखला भेजी जाएगी। इसकी पहली खेप आज भारत आ रही है।

वाशिंगटन, प्रेट्र। भारत में कोरोना की दूसरी लहर से हालाक बेकाबू हो चुके हैं। देश में ऑक्सीजन और दवाओं की कमी महसूस की जी रही है। इस कारण देश में मरीजों की हालत अस्पतालों में बिगड़ रही है। ऐसे में भारत की मदद के लिए अमेरिका ने हाथ आगे बढ़ाए हैं। आज अमेरिका से मदद की पहली खेप भारत पहुंचने वाली है। अमेरिका आने वाले दिनों में भारत को 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की मदद की एक पूरी श्रृंखला भेज रहा है। इसमें ऑक्सीजन, दवाओं समेत कई अन्य सामान होंगे। आज विमान से पहली खेप भारत पहुंचने वाली है।

अमेरिका के व्हाइट हाउस की ओर से जानकारी दी गई है कि अमेरिका आने वाले दिनों में भारत को 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक की COVID-19 राहत सामग्री मुहैया कराएगा। व्हाइट हाउस ने कहा कि भारत के लिए तत्काल स्वास्थ्य आपूर्ति ले जाने वाली पहली उड़ान आज वहां पहुंचेगी। अमेरिकी एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट ने बुधवार की रात दुनिया के सबसे बड़े सैन्य विमान ट्रेविस एयर फोर्स बेस से उड़ान भरी

अमेरिका से मदद में क्या-क्या आ रहा है ?

यूएसएआईडी ने कहा कि शिपमेंट में 440 ऑक्सीजन सिलेंडर और नियामक शामिल हैं, जिसे उदारता से कैलिफोर्निया राज्य द्वारा दान किया गया है। इसके अलावा, इस पहली उड़ान में यूएसएआईडी 960,000 रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट भेज रहा है ताकि भारत में कोरोना के सामुदायिक प्रसार को रोकने में मदद करने के लिए संक्रमणों की पहचान की जा सके। इसके अलावा भारत के फ्रंटलाइन हेल्थकेयर वर्कर्स की सुरक्षा के लिए 100,000 एन 95 मास्क बनाए गए।

अमेरिकी मदद की पहली खेप गुरुवार शाम तक दिल्ली पहुंच जाएगी। विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि भारत मुख्य तौर पर अभी आक्सीजन उपलब्धता बढ़ाने वाली मशीनें या रेमडेसिविर जैसी दवाइयां ही विदेश से मांग रहा है। कई देशों की तरफ से पीपीई किट्स या मास्क अपनी तरफ से ही दिए जा रहे हैं। विदेशी मदद को भारत खुले दिल से स्वीकार कर रहा है। भारत की जरूरत को देखते हुए कुछ देशों ने बड़े आक्सीजन प्लांट लगाने का प्रस्ताव किया है, लेकिन उन्हें लाने और यहां स्थापित करने की दिक्कतों को देखते हुए इस बारे में विचार किया जा रहा है। साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!