ताज़ा खबर :
prev next

कोरोना संकट के बीच सेना प्रमुख ने की PM मोदी से मुलाकात, नरवणे ने दी तैयारियों को लेकर जानकारी

पढ़िए दैनिक जागरण की ये खबर…

सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। कोरोना संकट पर सेना की तरफ की गई तैयारियों को लेकर प्रधानमंत्री नें उनसे बातचीत की। इस बैठक में कोरोना प्रबंधन में मदद के लिए सेना द्वारा की जा रही विभिन्न पहलों पर चर्चा की गई है।

नई दिल्ली, । देश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। कोरोना संकट पर सेना की तरफ की गई तैयारियों को लेकर प्रधानमंत्री नें उनसे बातचीत की। बैठक में कोरोना प्रबंधन में मदद के लिए सेना द्वारा की जा रही विभिन्न पहलों पर चर्चा की गई है। सेना प्रमुख ने प्रधानमंत्री को बताया कि विभिन्न राज्य सरकारों को सेना के चिकित्साकर्मी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों में सेना की ओर से अस्थायी अस्पतालों का भी निर्माण किया जा रहा है। बता दें कि इससे पहले पीएम मोदी वायुसेना प्रमुख और सीडीएस बिपिन रावत के साथ बैठक कर चुके हैं।

अस्पताल खोलने से लेकर ऑक्सीजन के क्षेत्र में पहुंचाई जा रही मदद

जनरल नरवणे ने मुलाकात में पीएम को बताया कि सेना ज्यादा से ज्यादा जगहों पर आम लोगों के लिए अस्पताल खोलने का कार्य कर रही है। उन्होंने बताया कि सेना कोरोना के मामलों से निपटने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में अस्थायी अस्पताल बना रही है। सेना प्रमुख ने प्रधानमंत्री को इस बात से भी अवगत कराया कि आयात किए गए ऑक्सीजन टैंकरों और गाड़ियों के प्रबंधन में जहां विशेषज्ञ कौशल की जरूरत पड़ रही है वहां सेना की ओर से मदद पहुंचाई जा रही है।

वायुसेना द्वारा चलाए जा रहे अभियान भी कर चुके हैं समीक्षा

बता दें कि बीते दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय वायु सेना द्वारा चलाए जा रहे अभियान की समीक्षा की थी। इस दौरान ऑक्सीजन टैंकरों और अन्य आवश्यक उपकरणों के परिवहन में सुरक्षा का ध्यान रखते हुए तेजी लाने पर जोर दिया गया था।

वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने पीएम मोदी से मुलाकात के दौरान देश में कोरोना की ताजा स्थिति में सुधार के लिए वायु सेना की तरफ से किए जा रहे प्रयासों से अवगत कराया था। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑक्सीजन टैंकरों और अन्य आवश्यक वस्तुओं के परिवहन संचालन की गति तेज करने और उसका स्तर बढ़ाने  सहित उसकी सुरक्षा पर ध्यान देने की आवश्यकता जोर दिया था।

बता दें कि इस वक्त देश में लगातार तीन लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हैं। बढ़ रहे कोरोना के मामलों के चलते ऑक्सजीन संकट पैदा गया है। ऐसे में अन्य देशों ने भी भारत की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *