ताज़ा खबर :
prev next

5 राज्यों के नतीजे LIVE:खेला तो नंदीग्राम में होबे; पहले 1200 वोटों से ममता की जीत का ऐलान, फिर 1622 वोटों से हराने का भाजपा का दावा; EC कह रहा- ममता 10 हजार वोटों से पीछे

पढ़िए दैनिक भास्कर की ये खबर…

कोरोना के रिकॉर्ड मामलों के बीच 62 दिन चली चुनाव प्रक्रिया के बाद आज बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी के चुनाव नतीजे आ रहे हैं। तीन राज्य बंगाल, केरल और असम में बदलाव नहीं दिख रहा है। यानी बंगाल में तृणमूल, केरल में LDF और असम में भाजपा ही सरकार बनाती दिख रही है, जो पहले से थी। हां, तमिलनाडु में जरूर बदलाव होता दिख रहा है। वहां द्रमुक और कांग्रेस सरकार बनाने के करीब है। पुडुचेरी में मामला जरूर फंसा दिख रहा है।

खेला तो नंदीग्राम में होबे
उधर, बंगाल की नंदीग्राम सीट पर सस्पेंस बना हुआ है। पहले न्यूज एजेंसी के हवाले से यह खबर आई कि ममता इस सीट पर कभी अपने भरोसेमंद रहे शुभेंदु अधिकारी से महज 1200 वोटों से जीत गईं। हालांकि, थोड़ी ही देर बाद भाजपा की IT सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने दावा किया कि ममता जीती नहीं, बल्कि 1,622 वोटों से हार गई हैं। उधर, चुनाव आयोग की वेबसाइट के मुताबिक, ममता इस सीट से अभी शुभेंदु से 10,379 वोटों से पीछे हैं।

बंगाल में पूरे चुनाव में सबसे ज्यादा चर्चा इसी सीट की रही। तृणमूल छोड़कर भाजपा में आए शुभेंदु अधिकारी ने कहा था कि वे 50 हजार वोटों से जीतेंगे और अगर हार गए तो राजनीति छोड़ देेंगे।

क्या ममता ने भी हार कबूल की?
ममता के बयान से जाहिर हो रहा है कि नंदीग्राम में उनकी हार हुई है। कोलकता में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ममता ने कहा कि नंदीग्राम के बारे में फिक्र मत करिए। मैंने नंदीग्राम के लिए संघर्ष किया। नंदीग्राम के लोग जो भी तय करते हैं, मैं उसे स्वीकार करती हूं। हमने 221 से ज्यादा सीटें जीती हैं, भाजपा चुनाव हार गई है।

4 घंटे में 200 सीटों पर पहुंच गई तृणमूल
बंगाल में चार घंटे में ही तृणमूल कांग्रेस 148 सीटों के बहुमत के आंकड़े (292 सीटों के हिसाब से 147) को पार कर 200 से ज्यादा सीटों पर पहुंच गई। हालांकि, यह आंकड़ा 2016 में तृणमूल को मिलीं 211 सीटों से कम है।

यहां एक जानकारी की बात…1972 से अब तक बीते 49 साल में बंगाल में यह 11वां चुनाव है और जो पार्टी जीत रही है, उसका 200+ सीटों का ट्रेंड बरकरार है। तृणमूल ने 2016 में 211 और 2011 में 228 सीटें जीती थीं। उससे पहले 7 बार लगातार लेफ्ट ने चुनाव जीता। सिर्फ एक बार 2001 में लेफ्ट को 200 से 4 सीटें कम यानी 196 सीटें मिलीं। बाकी चुनावों में लेफ्ट को हमेशा 200 सीटों से ज्यादा सीटें मिलीं।

बंगाल के नतीजों पर भाजपा पर तंज
तृणमूल के राज्य सभा सांसद ने नतीजों के बाद ट्वीट कर भाजपा पर तंज कसा है। इस पोस्ट में उन्होंने एक सूत्र का जिक्र किया है। इसमें एक तरफ भाजपा के साथ, सीबीआई, ईडी, चुनाव आयोग, मीडिया, पैसे और दलबदलुओं का जिक्र किया है। दूसरी ओर ब्रायन ने कहा कि इन सब पर ममता, तृणमूल कार्यकर्ताओं और बंगाल की जनता भारी पड़ी है।

2001 को छोड़कर बीते 49 साल में हर बार जीतने वाली पार्टी को 200+ सीटें मिलीं

साल पार्टी/मोर्चा सीटें
2016 टीएमसी 211
2011 टीएमसी+कांग्रेस 228
2006 लेफ्ट फ्रंट 233
2001 लेफ्ट फ्रंट 196
1996 लेफ्ट फ्रंट 203
1991 लेफ्ट फ्रंट 245
1987 लेफ्ट फ्रंट 251
1982 लेफ्ट फ्रंट 238
1977 लेफ्ट फ्रंट 231
1972 लेफ्ट फ्रंट 216

बाकी राज्यों का हाल
अब बाकी राज्यों के हाल जानते हैं। बंगाल के बाद असम के नतीजों पर सबकी नजर है। यहां शुरुआती 2 घंटों के रुझानों में भाजपा+ बहुमत का आंकड़ा पार कर 78 सीटों पर पहुंच गई। उधर, केरल में सत्ताधारी लेफ्ट को आसानी से बहुमत मिलता दिख रहा है। वहीं, तमिलनाडु में अनुमान सही साबित होते दिख रहे हैं। यहां द्रमुक+ रुझानों में 145 सीटों पर पहुंच गया है। पुडुचेरी में भाजपा+ और कांग्रेस+ में शुरुआत में मुकाबला कांटे का दिखा, लेकिन बाद में भाजपा+ आगे निकल गई।

LIVE अपडेट्स…

7:25- PM- ममता नंदीग्राम में शुभेंदु से 10,379 वोटों से पीछे हो गई हैं।

6:45- PM- चुनाव आयोग की वेबसाइट के मुताबिक, ममता इस सीट से अभी शुभेंदु से 9,862 वोटों से पीछे हैं।

6:30- PM- कोलकता में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ममता ने कहा कि नंदीग्राम के बारे में फिक्र मत करिए। मैंने नंदीग्राम के लिए संघर्ष किया। नंदीग्राम के लोग जो भी तय करते हैं, मैं उसे स्वीकार करती हूं।

6:06- PM- भाजपा की IT सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने दावा किया कि ममता 1,622 वोटों से हार गई हैं।

5:20- PM- रुझानों और नतीजों के बीच ममता बाहर आईं। उनके पैर में प्लास्टर नहीं था। वे पैदल मंच पर गईं और कार्यकर्ताओं से घर वापस जाने की अपील की। ममता इस दौरान भतीजे अभिषेक बैनर्जी के साथ थीं।

4:30- PM- ममता बनर्जी शुभेंदु अधिकारी से 1200 वोटों से जीतीं।

3:35- PM- 16वें राउंड की काउंटिंग के बाद ममता 6 वोट से पीछे हो गई हैं।

3:20- PM- बंगाल में भाजपा के तीनों सांसद पीछे। बाबुल सुप्रियो 5,000 वोट, स्वप्न दासगुप्ता 7,000 वोट और लॉकेट चटर्जी 14,000 वोट से पीछे।

3:15- PM- 14वें राउंड की काउंटिंग के बाद ममता बनर्जी भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से 3,800 वोटों से आगे निकलीं।

3:12- PM- बंगाल में उत्तर 24 परगना में सर्वर डाउन होने से काउंटिग 40 मिनट से रुकी हुई है।

2:55 PM- असम में भाजपा+ 78 कांग्रेस+ 47 सीटों पर आगे, पुडुचेरी में भाजपा+ 8 और कांग्रेस+ 3 सीटों पर आगे।

2:50 PM- तमिलनाडु में भाजपा+81, कांग्रेस+ 152 पर आगे। केरल में लेफ्ट 96, कांग्रेस 44 सीटों पर आगे।

2:45 PM- पश्चिम बंगाल में तृणमूल 202, भाजपा 86 और कांग्रेस 2 सीटों पर आगे।

2:37 PM- शिवपुर से पूर्व क्रिकेटर और तृणमूल उम्मीदवार मनोज तिवारी जीते।

2:35 PM- नंदीग्राम में 14वें राउंड की गिनती के बाद ममता बनर्जी भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से फिर आगे निकलीं। 2,000 से ज्यादा वोटों की बढ़त।

2:26 PM- कोलकाता में भाजपा दफ्तर के सामने सैकड़ों तृणमूल कार्यकर्ता जमा हुए। जीत का जश्न मनाया और नारेबाजी की।

2:05 PM- नंदीग्राम में 13वें राउंड की गिनती के बाद ममता फिर 3,000 वोटों से शुभेंदु से पिछड़ गईं।

1:47 PM- नंदीग्राम में ममता बनर्जी ने भाजपा के शुभेंदु अधिकारी पर 27,00 वोटों की बढ़त बनाई।

1:00 PM- चुनाव आयोग ने कहा- चुनावी जीत का जश्न मनाते दिख रहे लोगों पर FIR दर्ज की जाए।

12:45 PM- केंद्रीय मंत्री और टॉलीगंज से भाजपा उम्मीदवार बाबुल सुप्रियो 25,000 वोटों से पीछे हुए।

12:43 PM- नंदीग्राम में ममता बनर्जी ने पहली बार भाजपा के शुभेंदु अधिकारी पर 1,500 वोटों की बढ़त बनाई।

12:40 PM- केरल की पलक्कड़ सीट से भाजपा उम्मीदवार मेट्रोमैन ई. श्रीधरन आगे चल रहे हैं।

12:35 PM- बंगाल में तृणमूल 208, भाजपा 80 और कांग्रेस 2 सीटों पर आगे।

12:20 PM- नंदीग्राम में छह राउंड के बाद शुभेंदु ने फिर 7,226 वोटों की बढ़त बनाई, ममता पिछड़ीं।

12:00 PM- बंगाल में तृणमूल+ 206, भाजपा+ 83 और कांगेस+ 1 सीटों पर आगे।

11:40 AM- बंगाल में खरदह सीट से तृणमूल की दिवंगत उम्मीदवार काजल सिन्हा आगे। काजल का हाल ही में कोरोना की वजह से निधन हो गया था।

11:30 AM- बंगाल की टॉलीगंज सीट से भाजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो 3,500 वोटों से पीछे।

11:25 AM- सिंगूर सीट पर तृणमूल के बेचाराम मन्ना ने भाजपा के रवींद्रनाथ भट्टाचार्य पर बढ़त बनाई। शिवपुर से पूर्व क्रिकेटर और तृणमूल उम्मीदवार मनोज तिवारी पीछे।

11:10 AM- असम में भाजपा+ 82 कांग्रेस+ 43 सीटों पर आगे, पुडुचेरी में भाजपा+ 9 और कांग्रेस+5 सीटों पर आगे।

11:00 AM- तमिलनाडु में भाजपा+ 101, कांग्रेस+ 132 पर आगे। केरल में लेफ्ट 90, कांग्रेस 47 सीटों पर आगे।

10:55 AM- भाजपा के बाबुल सुप्रियो, लॉकेट चटर्जी और स्वप्न दासगुप्ता पीछे।

10:55 AM- नंदीग्राम में फासला घटा। अब शुभेंदु अधिकारी 7000 की जगह 4000 वोटों से आगे, ममता बनर्जी पीछे।

10:40 AM- पश्चिम बंगाल में तृणमूल+ 191, भाजपा+ 96 और कांग्रेस 5 सीटों पर आगे।

10:20 AM- असम में भाजपा+ 70 कांग्रेस+ 39 सीटों पर आगे, पुडुचेरी में भाजपा+ 9 और कांग्रेस+5 सीटों पर आगे।

10:15 AM- तमिलनाडु में भाजपा+ 98, कांग्रेस+ 132 पर आगे। केरल में लेफ्ट 89, कांग्रेस 49 सीटों पर आगे।

10:00 AM- नंद्रीग्राम में ममता बनर्जी पीछे। भाजपा के शुभेंदु अधिकारी 7,200 से ज्यादा वोटों से आगे।

9:50 AM- शुरुआती रुझानों में तृणमूल को बहुमत, 161 सीटों, भाजपा 115 पर आगे और कांग्रेस 6 पर आगे।

9:40 AM- नंदीग्राम से भाजपा के शुभेंदु अधिकारी ममता बनर्जी से करीब 5000 वोटों से आगे।

9:30 AM- बंगाल की चुंचुड़ा सीट से भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी पीछे हो गई हैं। पहले वे आगे चल रही थीं।

9:27 AM- बंगाल के टॉलीगंज से भाजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो पीछे हो गए हैं। पहले वे आगे चल रहे थे।

9:15 AM- पश्चिम बंगाल में तृणमूल+ 133 और भाजपा+ 109 और कांग्रेस 6 सीटों पर आगे।

9:00 AM- पुडुचेरी में भाजपा+ 9 और कांग्रेस+ 5 सीटों पर आगे।

8:45 AM- केरल की सभी 140 सीटों के रुझान आना शुरू। लेफ्ट 79, कांग्रेस 59 और भाजपा 2 पर आगे।

8:30 AM- बंगाल की आसनसोल सीट से तृणमूल की सयानी घोष आगे, भाजपा की अग्निमित्रा पॉल पीछे।

8:25 AM- बंगाल की देबरा सीट से भाजपा की भारती घोष आगे, तृणमूल के हुमायूं कबीर पीछे।

8:15 AM- पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में ममता बनर्जी भाजपा के शुभेंदु अधिकारी से पीछे।

8:05 AM- बंगाल की चुंचुड़ा सीट से भाजपा सांसद लॉकेट चटर्जी पीछे हो गई हैं।

1. बंगाल

  • कुल सीटें: 294 (वोटिंग 292 सीटों पर हुई)
  • बहुमत: 148 (292 सीटों के लिहाज से 147)
  • पिछली बार कौन जीता: तृणमूल कांग्रेस

राज्य में 294 में से 292 सीटों पर मतदान हुआ। भाजपा ने यहां पहली बार 291 सीटों पर उम्मीदवार उतारे, जबकि एक सीट उसने सुदेश महतो की ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन पार्टी को दी। पिछली बार यहां गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने भाजपा के साथ चुनाव लड़ा था। इस बार GJM तृणमूल के साथ है। चुनाव से पहले भाजपा ने तृणमूल के कई बड़े नेताओं को तोड़ लिया था, इनमें ममता बनर्जी के करीबी शुभेंदु अधिकारी भी शामिल हैं।

29 अप्रैल को आए एग्जिट पोल्स में बंगाल को लेकर एक राय नहीं दिखी। 9 एग्जिट पोल्स में से 5 में ममता बनर्जी की तृणमूल को बहुमत हासिल होने का अनुमान लगाया गया या यह बताया गया कि वह बहुमत के काफी करीब है। वहीं, 3 पोल्स में भाजपा को आगे बताया गया। हालांकि, सभी पोल्स में तृणमूल को सीटों का नुकसान साफ दिखाई दिया।

2. असम

  • कुल सीटें: 126
  • बहुमत: 64
  • पिछली बार कौन जीता: भाजपा+

पिछली बार असम में NDA को पहली बार सत्ता हासिल हुई थी, लेकिन 12 सीटें जीतकर भाजपा को सत्ता दिलाने में मदद करने वाले बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट ने इस बार कांग्रेस और लेफ्ट से हाथ मिलाया। भाजपा के साथ असम गण परिषद बना हुआ है। भाजपा ने UPLL के साथ भी गठबंधन किया। यहां NRC यानी नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स का मुद्दा हावी रहा है। यहां भाजपा की जीत और सर्बानंद सोनोवाल का दोबारा सीएम बनना तय लग रहा है। असम में सभी 6 एग्जिट पोल्स में भाजपा गठबंधन को बहुमत मिलने का अनुमान लगाया गया था।

3. तमिलनाडु

  • कुल सीटें: 234
  • बहुमत: 118
  • पिछली बार कौन जीता: अन्नाद्रमुक

यहां पहली बार जयललिता और करुणानिधि के बगैर विधानसभा चुनाव हुए। जयललिता की गैरमौजूदगी में अन्नाद्रमुक के पास सिर्फ सीएम पलानीस्वामी के तौर पर एक चेहरा था। वहीं, द्रमुक का चेहरा करुणानिधि के बेटे स्टालिन हैं। इसी वजह से सभी एग्जिट पोल्स में इस बार द्रमुक की जीत का अनुमान जताया गया था। अन्नाद्रमुक ने इस बार भाजपा के साथ चुनाव लड़ा, जबकि द्रमुक ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया।

4. केरल

  • कुल सीटें: 140
  • बहुमत: 71
  • पिछली बार कौन जीता: LDF

दिलचस्प यह है कि बंगाल में कांग्रेस और लेफ्ट मिलकर चुनाव लड़ते हैं, जबकि केरल में वे एक-दूसरे के विरोध में रहते हैं। पिछली बार यहां लेफ्ट की अगुआई वाला LDF जीता था। कांग्रेस इसका हिस्सा नहीं है। कांग्रेस की अगुआई वाला UDF यहां विपक्षी गठबंधन है। भाजपा ने इस बार 140 में से 113 सीटों पर उम्मीदवार उतारे। उधर, भाजपा ने पिछली बार केरल में 1 सीट जीती थी।

5. पुडुचेरी

  • कुल सीटें: 30
  • बहुमत: 16
  • पिछली बार कौन जीता: कांग्रेस+द्रमुक

पुडुचेरी विधानसभा वाला केंद्र शासित प्रदेश है। यहां फरवरी में कांग्रेस की अगुआई वाली सरकार गिर गई थी। वी. नारायणसामी बहुमत साबित नहीं कर सके थे। दो मंत्रियों के भाजपा में शामिल होने और कुछ विधायकों के इस्तीफे के बाद सत्ता उनके हाथ से फिसल गई थी। इस बार 3 एग्जिट पोल्स में भाजपा और AINRC और बाकी 3 पोल्स में कांग्रेस+द्रमुक को बहुमत मिलने के आसार बताए गए।साभार-दैनिक भास्कर

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *