ताज़ा खबर :
prev next

90% कोरोना मरीज घर पर ठीक हो रहे हैं, पर सबसे बड़ा सवाल- आखिर उनका होम आइसोलेशन कब खत्म होगा?

पढ़िए  दैनिक भास्कर की ये खबर….

अब तो पूरी दुनिया को पता है कि 90% केसेस में कोरोना संक्रमित व्यक्ति घर पर रहकर ही ठीक हो जाता है। उसे न तो ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है और न ही हॉस्पिटल में भर्ती करने की। पर फिर भी जो लोग घरों में अलग रहकर यानी होम आइसोलेशन में इलाज करवा रहे हैं, उनके सामने कई सवाल रहते हैं। सबसे बड़ा सवाल तो यह रहता है कि आखिर उनका होम आइसोलेशन कब खत्म होगा?

होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमित मरीजों के और भी कुछ महत्वपूर्ण सवाल हैं, जिनके जवाब हमने भोपाल में कोरोना मरीजों की टेस्टिंग और इलाज कर रहे डॉ. तेजप्रताप तोमर और डॉ. पूनम चंदानी से लिए हैं-

होम आइसोलेशन का मतलब क्या है? इसकी सलाह किसे दी जाती है?

  • अगर किसी मरीज में कोरोनावायरस संक्रमण का कोई लक्षण नजर आता है या वह किसी कोरोनावायरस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आता है तो उसे जांच की सलाह दी जाती है। जब तक जांच के नतीजे नहीं आते, तब तक उस व्यक्ति को घर में सबसे अलग यानी आइसोलेशन में रहने की सलाह दी जाती है। नतीजे आने पर अगर वह कोरोनावायरस पॉजिटिव निकलता है तो लक्षणों के आधार पर डॉक्टर उसका इलाज करते हैं।
  • अगर लक्षण हल्के या मामूली हैं तो उसका इलाज घर पर ही हो सकता है। इसके लिए कोशिश की जाती है कि वह अन्य घरवालों के संपर्क में आकर उन्हें संक्रमित न करे। उसे अलग-थलग रहने को कहा जाता है, जिसे हम होम आइसोलेशन या क्वारैंटाइन में रहकर इलाज करना कहते हैं। इस दौरान मरीज को देखभाल करने वाले की सख्त आवश्यकता होती है, जो मरीज की दवा, खानपान एवं अन्य जरूरतों को पूरा करता है।

यह होम आइसोलेशन कब खत्म करना चाहिए?

  • आम तौर पर मरीजों को 14 से 17 दिन होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी जाती है। पर यह सब लक्षणों की प्रकृति और उनकी गंभीरता से तय होता है। फिर भी मानकर चलिए कि लक्षणों के दिखने पर कम से कम 14 दिन तक आइसोलेट रहना ही है।
  • जिन लोगों में संक्रमण के कोई लक्षण न हों, उनका होम आइसोलेशन वायरस के लिए जांच में पॉजिटिव आने के 10 दिन बाद खत्म हो सकता है। बेहतर होगा आपका इलाज कर रहे डॉक्टर या फिजिशियन से पूछकर आप तय करें कि आइसोलेशन खत्म कब करना है।
  • अगर मरीज को तीन दिन से बुखार नहीं आया है तो अगले 7 दिन में आप आइसोलेशन खत्म कर सकते हैं। धीरे-धीरे लक्षण खत्म होने लगते हैं और जब पूरी तरह खत्म हो जाते हैं तब भी कुछ दिन आइसोलेशन में रहने की सलाह दी जाती है।

क्या आइसोलेशन खत्म करने के लिए निगेटिव RT-PCR रिपोर्ट जरूरी है?

  • नहीं। आदर्श परिस्थितियों में 24 घंटे के अंतर से दो RT-PCR रिपोर्ट निगेटिव आने पर होम आइसोलेशन खत्म करने को कहा जाता है। पर जिस तेजी से केस बढ़ रहे हैं और जांच करने वाली लैबोरेटरीज पर दबाव बढ़ रहा है, मरीज 14 दिन बाद बिना टेस्ट के भी आइसोलेशन खत्म कर सकता है।
  • होम आइसोलेशन का पीरियड 14 दिन होना चाहिए क्योंकि एक्सपर्ट्स का मानना है कि वायरस की साइकल इतने दिन में पूरी हो जाती है और वह मर जाता है। एम्स-दिल्ली के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया के मुताबिक यह वैज्ञानिक तरीके से साबित हो चुका है कि हल्के या मामूली लक्षणों की स्थिति में वायरस छह से सात दिन में खुद-ब-खुद मर जाता है।
  • विशेषज्ञ यह भी कहते हैं कि अगर RT-PCR टेस्ट कराया तो मृत वायरस की वजह से रिपोर्ट पॉजिटिव आ सकती है। भले ही शरीर में वायरस की डेडबॉडी हो, पर टेस्ट तो पॉजिटिव बताता है। पर उससे किसी और को इन्फेक्ट करने या वायरस ट्रांसमिशन का खतरा बिल्कुल भी नहीं रहता है।
  • यह ध्यान रखना जरूरी है कि जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर है, उन्हें डॉक्टर आम तौर पर निर्धारित आइसोलेशन अवधि से ज्यादा आइसोलेशन में रहने को कह सकते हैं। उन्हें दोबारा टेस्टिंग के लिए भी कहा जा सकता है।

आइसोलेशन खत्म होने के बाद भी क्या वायरस ट्रांसमिट हो सकता है?

  • हां। अगर आपने सही दिशा-निर्देशों का पालन नहीं किया और समय से पहले होम आइसोलेशन खत्म कर दिया तो आप भी वायरस को अन्य लोगों को ट्रांसमिट कर सकते हैं। आम तौर पर संक्रामक लक्षणों के बाद शरीर में वायरस की संख्या तेजी से कम होती है, जिससे दूसरे लोगों में वायरस ट्रांसमिट करने की क्षमता खत्म हो जाती है। हालांकि, सुरक्षा और करीबियों की सेहत को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर मरीज को 7 और दिन होम आइसोलेशन में रहने को कह सकते हैं। मरीज के लिए मास्क पहनने, साफ-सफाई रखने और अन्य एहतियाती उपाय जारी रखना भी जरूरी है।

कोरोना पॉजिटिव मरीज लोगों के बीच कब जा सकता है?

  • अगर कोई लक्षण नहीं बचा है तो व्यक्ति शुरुआती लक्षणों के 14-17 दिन में काम पर लौट सकता है। पर यह देखना जरूरी है कि वह अपने काम कर पा रहा है या नहीं। अक्सर लोग पूरी तरह रिकवर नहीं हो पाते और रोजमर्रा के काम में लौट आते हैं। इससे उनकी रिकवरी प्रभावित होती है। पूरी तरह से ठीक होने में अतिरिक्त समय लगता है। आइसोलेशन पीरियड खत्म होने के बाद वह अन्य लोगों में जा सकता है। पर उसे कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना होता है।

अगर आपके घर में कोई कोरोना इन्फेक्टेड व्यक्ति है तो आपको क्या पता होना चाहिए?

  • होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे मरीज की देखभाल करने वाले को कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। वे जब भी इन्फेक्टेड व्यक्ति से जुड़ा कोई काम करें तो अतिरिक्त सावधानी बरतें। मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर का इस्तेमाल और अन्य प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करें। अगर किसी भी तरह का लक्षण नजर आता है तो तत्काल आइसोलेट कर लें। बाकी लोगों से मिले-जुले नहीं। जांच कराएं और अगर पॉजिटिव आते हैं तो डॉक्टर की सलाह से पूरे प्रोटोकॉल का पालन करें।

होम आइसोलेशन में लोगों को किन गाइडलाइंस को फॉलो करना है?

  • आइसोलेशन में रहने वाले मरीज और उसकी देखभाल करने वाले को यह सुनिश्चित करना होगा कि आसपास साफ-सफाई रहे। कचरे का निपटान सही तरीके से हो। डिसइंफेक्शन और सैनिटेशन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि मरीज को ऐसा आहार लेना है, जिसमें प्रोटीन अधिक हो। यह वायरस से लड़ने और जल्द से जल्द रिकवर होने में मदद करता है। साभार-दैनिक भास्कर
आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!