ताज़ा खबर :
prev next

पीएम मोदी के साथ सर्वदलीय बैठक, जम्मू-कश्मीर के अधिकांश नेता दिल्ली में, फारूक अब्दुल्ला आज पहुंचेंगे

पढ़िए दैनिक जागरण की ये खबर…

PM Modi all party meeting प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ आज जम्मू-कश्मीर के नेताओं की सर्वदलीय बैठक होनी है। पांच अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने के बाद पहली बार पीएम मोदी ने कश्मीर के मुख्यधारा के राजनीतिक दलों के नेताओं की बैठक बुलाई है।

नई दिल्ली, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास पर आज जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ होने वाली सर्वदलीय बैठक का एजेंडा सार्वजनिक न किए जाने से स्पष्ट हो गया है कि वार्ता का दायरा सीमित नहीं होगा। सभी अपने दिल की बात खुलकर कह सकेंगे ताकि जम्मू-कश्मीर में शांति, स्थिरता, सुरक्षा और विकास के स्थायी वातावरण की बहाली का रोडमैप बन सके और राजनीतिक प्रक्रिया को गति दी जा सके।

बैठक के लिए बुलाए गए लगभग सभी नेता बुधवार को अपने एजेंडे के साथ दिल्ली पहुंच गए। इनमें पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती भी शामिल हैं। नेशनल कांफ्रेंस (नेकां) के अध्यक्ष डा. फारूक अब्दुल्ला आज दिल्ली पहुंचेंगे। बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा भी मौजूद रहेंगे।

बैठक के लिए जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं को बुलाया गया

अलगाववादियों व पाक को स्पष्ट संदेश

पांच अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम लागू किए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार केंद्र शासित प्रदेश के मुख्यधारा के राजनीतिक दलों के नेताओं की बैठक बुलाई है। इससे केंद्र सरकार ने अलगाववादियों और उनके आका पाकिस्तान को संदेश दिया है कि कश्मीर पूरी तरह से भारत का आंतरिक मुद्दा है और इस पर वह सिर्फ और सिर्फ जम्मू-कश्मीर के उन दलों से बात करेगी, जो भारतीय संविधान में आस्था रखते हुए जनता का प्रतिनिधित्व करते हैं। बैठक उस पुरानी कश्मीर नीति में भी बदलाव की पुष्टि करती है, जिसमें हालात सामान्य बनाने के लिए मुख्यधारा के दलों की उपेक्षा कर अलगाववादियों व उनसे संबधित संगठनों को विश्वास में लेने, उनसे बातचीत की प्रक्रिया को अपनाया जाता रहा है।

पीडीपी और गुपकार के एजेंडे पर बात करेंगी महबूबा

पीडीपी के वरिष्ठ नेता सैयद ताहिर के अनुसार महबूबा मुफ्ती इस बैठक में पांच अगस्त, 2019 से पहले की संवैधानिक स्थिति की बहाली के अलावा राजनीतिक कैदियों की रिहाई का मुद्दा उठाएंगी। वह पीडीपी और पीपुल्स एलायंस फार गुपकार डिक्लेरेशन (पीएजीडी) के एजेंडे पर बात करेंगी। गुपकार में जम्मू-कश्मीर के कई राजनीतिक दल शामिल हैं। इस बीच, फारूक अब्दुल्ला ने बुधवार को वरिष्ठ नेताओं के साथ एक बार फिर बैठक की। इसमें जम्मू संभाग के नेता भी शामिल हुए।

बेहतरी का रास्ता बनेगा

कश्मीर मामलों के विशेषज्ञ और पत्रकार आसिफ कुरैशी ने कहा कि इस बैठक का कोई ठोस नतीजा बेशक न निकले, लेकिन हर मुददे पर खुलकर बात होगी। बैठक जम्मू-कश्मीर की बेहतरी के लिए एक नया रास्ता तैयार करेगी। साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *