ताज़ा खबर :
prev next

कौन हैं IPS अधिकारी अंकिता शर्मा, जिन्हें सौंपी गई है ऑपरेशन बस्तर की जिम्मेदारी

पढ़िये जी न्यूज की ये खास खबर….

रायपु। छत्तीसगढ़ की बघेल सरकार ने बड़ी प्रशासनिक सर्जरी करते हुए 40 आईपीएस अधिकारियों के ट्रांसफर किए हैं। लेकिन खास बात यह है कि बघेल सरकार ने रायपुर की सिटी एसपी अंकिता शर्मा (Ankita Sharma) को छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बस्तर (Bastar) जिले का ASP बनाया है। ऐसे में यह सवाल खड़ा होता है कि आखिर कौन है यह महिला आईपीएस अधिकारी जिसे सरकार ने इतनी बड़ी जिम्मेदारी दी है।

2018 बैच की IPS अधिकारी है अंकिता शर्मा 
छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में जन्मी अंकिता शर्मा 2018 आईपीएस बैच की अधिकारी है। अंकिता उस वक्त चर्चा में आई थी जब उन्होंने यूपीएसपी (UPSC) एग्जाम की तैयारी कर रहे युवाओं को लिए फ्री में ऑनलाइन कोचिंग की शुरूआत की थी। अंकिता शर्मा 100 से ज्यादा युवाओं को यूपीएसपी की तैयारी करवा रही है, हफ्ते में एक दिन IPS अंकिता अपनी व्यस्त दिनचर्या में से समय निकालक सुबह 11 से दोपहर एक के बजे के बीच छात्रों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं का निराकरण करती हैं। उनको इसी काम के चलते खूब तारीफ मिली थी।

छत्तीसगढ़ से पहली महिला IPS
अंकिता शर्मा को छत्तीसगढ़ की पहली महिला आईपीएस (IPS) अधिकारी बनने का भी गौरव प्राप्त है। 2018 की यूपीएससी परीक्षा में अंकिता शर्मा को 203 रैंक मिली थी, जबकि तीसरे प्रयास में इन्हें सफलता मिली थी। अंकिता वर्तमान में छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में नगर पुलिस अधीक्षक (सीएसपी) आजाद चौक के पद पर पोस्टेड थी। लेकिन अब उन्हें उनके करियर की एक बड़ी जिम्मेदारी सौंपी गई है। अंकिता को नक्सल प्रभावित बस्तर जिले का एएसपी बनाया है। उन्हें ऑपरेशन बस्तर की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

अपने दम पर हासिल किया IPS का मुकाम 
खास बात यह है कि अंकिता शर्मा ने आईपीएस अधिकारी बनने तक का मुकाम अपने दम पर हासिल किया है। एक इंटरव्यू में अंकिता ने बताया था कि वह बचपन से ही आईपीएस बनना चाहती थीं, लेकिन इस विषय में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी और मार्गदर्शन देने के लिए कोई नहीं था। इस कारण उन्हें दिक्कतों का भी सामना करना पड़ा। इसलिए वे अब कोशिश कर रही हैं कि उन्हें जितनी परेशानी हुई है। आगे किसी और को ना हो। इस वजह से वे यूपीएससी की तैयारी कर रहे छात्रों की क्लासेस ले रही हैं। इसके लिए अंकिता अपने बिजी शेड्यूल से भी समय निकाल लेती हैं।

खास बात यह है कि कम समय में ही अंकिता शर्मा ने छत्तीसगढ़ के प्रशासनिक हलके में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। उनकी पहचान दबंग और दमदार ऑफिसर के रूप में होती है। अंकिता शर्मा प्रदेश के गुडबिल अधिकारियों की लिस्ट में आती है जो अपने काम के प्रति सबसे ज्यादा सजग रहती हैं। अंकिता शर्मा के पति इंडियन आर्मी में कैप्टन है जिनका नाम विवेकानंद शुक्ला है, अंकिता शादी के बाद आईपीएस अधिकारी बनी हैं, वह अपनी उपलब्धि में अपने पति का खास रोल बताती है। पति के साथ रहते हुए उन्हें जम्मू-कश्मीर, हैदराबाद, झांसी जैसे शहरों में रहना पड़ा और उनको यूपीएससी की परीक्षा में दो बार असफलता मिली, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और तीसरी बार में परीक्षा पास कीं।

26 जनवरी को किया था परेड का नेतृत्व 
अंकिता शर्मा की पहचान एक एक्टिव अधिकारी के रूप में होती है। अंकिता को घुड़सवारी और बैडमिंटन खेलने का शौक हैं। सोशल मीडिया पर वह अक्सर घुड़सवारी की फोटो शेयर करती रहती  हैं। अंकिता ने इस इस साल गणतंत्र दिवस पर 26 जनवरी को छत्तीसगढ़ के रायपुर में पुलिस परेड ग्राउंड में ट्रेनी आईपीएस अंकिता शर्मा परेड का नेतृत्व किया था। इसके साथ ही वह राज्य के इतिहास में गणतंत्र दिवस परेड की कमान संभालने वाली पहली महिला पुलिस अधकारी बनी थीं।

विधायक से भिड़ गई थी अंकिता
महिला आईपीएस अधिकारी अंकिता शर्मा कहती हैं कि महिलाएं किसी से कम नहीं हैं, अंकिता ने कहा था कि महिलाएं किसी से कम नहीं होती हैं, महिलाओं और परेशान लोगों के लिए ही उन्होंने पुलिस की वर्दी पहनी है। इस साल फरवरी में अंकिता नियम कानून को लेकर कांग्रेस विधायक शकुंतला साहू से भिड़ गई थी, उन्होंने विधायक को नियम कानून की खुलेआम जानकारी दी थी। इस घटना का वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। यह मामला सोशल मीडिया पर काफी चर्चा हुई थी और लोगों ने अंकिता की जमकर तारीफ की थी। उनकी छवि छत्तीसगढ़ में एक्टिव महिला अधिकारी की रूप में है।

आदिवासी युवाओं को भी करवाती है तैयारी 
अंकिता शर्मा ने सोशल मीडिया पर एक अनूठी पहल शुरू की थी। आईपीएस अंकिता शर्मा ने कुछ समय पहले अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट कर लिखा था कि जो युवा यूपीएसी (UPSC) की तैयारी कर रहे हैं, अगर उन्हें किसी सहायता की जरूरत पड़े, तो वे रविवार सुबह 11 से दोपहर एक के बीच आजाद चौक थाना में मिल सकता है। ऐसा करने का उद्देश्य प्रतियोगी बच्चों की हेल्प करना था।इस मैसेज के बाद आईपीएस अंकिता शर्मा को कई छात्रों का फोन आया। तब से हर रविवार को उनके ऑफिस में यूपीएससी की पढ़ाई के लिए छात्र मार्गदर्शन लेने पहुंचते हैं। खास बात यह है कि वह न केवल युवाओं को यूपीएसी की तैयारी करवाती है बल्कि बुक और नोट्स भी उपलब्ध करवाती है। इसके अलावा वह छत्तीसगढ़ के आदिवासी युवाओं की भी मदद करती हैं।

ऑपरेशन बस्तर की सौंपी गई जिम्मेदारी
अंकिता शर्मा को नक्सल प्रभावित बस्तर जिले में ऑपरेशन बस्तर की जिम्मेदारी सौंपी गई है। दरअसल, बस्तर जिला छत्तीसगढ़ का अतिनक्सल प्रभावित जिला माना जाता है। जहां नक्सलियों को खत्म करने के लिए छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा ऑपरेशन बस्तर चलाया जा रहा है। जिसके तहत नक्सलियों के प्रभाव को बस्तर जिले से पूरी तरह खत्म करना है। अब अंकिता शर्मा को इस ऑपरेशन की जिम्मेदारी सौंपी गई हैं। उनके साथ आईपीएस अंजनेय वार्ष्णेय को सुकमा जिले का एएसपी ऑपरेशन बनाया गया है, उरला सीएसपी येदुपल्ली अक्षय कुमार को एएसपी ऑपरेशन की जिम्मेदारी देकर नारायणपुर भेज दिया गया है। ये सभी जिले बस्तर संभाग के तहत आते हैं।

खास बात यह है कि छत्तीसगढ़ पुलिस का यह अभियान सफल भी नजर आ रहा है। अब तक कई बड़े नक्सलियों को मार गिराया गया है, तो कई नक्सलियों ने पुलिस और सीआरपीएफ के सामने समर्पण भी किया है। ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी महिला अधिकारी को छत्तीसगढ़ में इतने बड़े ऑपरेशन की कमान सौंपी गई हैं।

साभार-जी न्यूज

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स मेंलिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *