ताज़ा खबर :
prev next

India China Border News: चीन से मुकाबले के लिए लद्दाख मोर्चे पर भारतीय सेना ने तैनात की आतंकवाद निरोधी इकाई

पढ़िये दैनिक जागरण की ये खास खबर….

India China Border News सरकारी सूत्रों ने बताया कि चीन द्वारा वहां आक्रामकता दिखाने के किसी भी संभावित प्रयास से निपटने के लिए डिवीजन आकार (लगभग 15000 सैनिकों) को आतंकवाद विरोधी अभियानों से लद्दाख क्षेत्र में ले जाया गया।

नई दिल्‍ली । चीनी सेना से निपटने के लिए भारतीय सेना ने कुछ महीने पहले पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात करने के लिए उत्तरी कमान क्षेत्र में आतंकवाद विरोधी अभियानों में लगी इकाइयों को बाहर निकाला। आतंकवाद विरोधी विभाग को उत्तरी कमान क्षेत्र के भीतर से ऑपरेशन से हटा दिया गया और कई महीने पहले लद्दाख सेक्टर में तैनात किया गया था

आतंकवाद विरोधी अभियान के 15 हजार सैनिकों की लद्दाख में तैनाती

सरकारी सूत्रों ने बताया कि चीन द्वारा वहां आक्रामकता दिखाने के किसी भी संभावित प्रयास से निपटने के लिए डिवीजन आकार का गठन (लगभग 15,000 सैनिक) को आतंकवाद विरोधी अभियानों से लद्दाख क्षेत्र में ले जाया गया। डिवीजन की आवाजाही ने सेना को उत्तरी सीमाओं पर संचालन के लिए सौंपे गए भंडार को बनाए रखने में मदद की है।

इन सैनिकों को दिया जाता है विशेष प्रशिक्षण

शुगर सेक्टर में तैनात रिजर्व फॉर्मेशन को उच्च पर्वतीय युद्ध के लिए प्रशिक्षित किया जाता है और हर साल लद्दाख के ठंडे रेगिस्तानी इलाकों में युद्ध के खेल आयोजित करता है। पिछले साल से वे पिछले साल से चीन के साथ गतिरोध में भारी संख्‍या से शामिल रहे हैं। सेना ने उपलब्ध संसाधनों का उपयोग करके डिवीजन के आगे की स्थिति में आवाजाही के कारण पैदा हुए अंतराल को भर दिया है। भारत ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में लगभग 50,000 सैनिकों को तैनात किया है और बल के स्तर को दोगुने से अधिक बढ़ाने में मदद की है।

काफी संख्‍या में भारतीय सैनिकों की तैनाती

चीन की आक्रमकता को देखते हुए लेह में 14 कोर के पास अब दो डिवीजन तैनात है जो कारू स्थित 3 डिवीजन सहित चीन सीमा की देखभाल करते हैं। कुछ अतिरिक्त बख्तरबंद इकाइयों को उस क्षेत्र में तैनात किया गया है, जहां पिछले साल से भारी संख्या में सैनिकों की भीड़ देखी जा रही है।

पिछले साल जून के महीने में भारत और चीन के सैनिकों में हुई थी झड़प

पिछले साल अप्रैल-मई के दौरान चीनी सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख के विपरीत एक अभ्यास से तेजी से सैनिकों को स्थानांतरित किया और कई स्थानों पर घुसपैठ की। भारत सरकार ने बड़े पैमाने पर जवाब दिया और चीनियों को नियंत्रण में रखने के लिए वहां लगभग समान संख्या में सैनिकों को तैनात किया।

स्थिति इस हद तक खराब हो गई कि चीन की सीमा पर चार दशकों से अधिक समय के बाद गोलियां चलाई गईं और पिछले 15 जून की गलवान घाटी में अपने मृतकों की संख्या छिपाने वाले चीनियों के साथ झड़प में 20 भारतीय सैनिकों की जान चली गई। तब से भारतीय सेना एलएसी पर बहुत हाई अलर्ट है और एलएसी पर अपनी स्थिति को और मजबूत कर रही है।

कई दौर की बातचीत के बाद भी नहीं सुलझा मुद्दा

भले ही पैंगोंग झील के दो किनारों से सैनिकों की आंशिक वापसी हुई हो, लेकिन तनाव बना हुआ है क्योंकि चीनी गोगरा हाइट्स-हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र में तनाव के बिंदुओं से दोनों देशों के सैनिक बाहर निकलने के लिए अनिच्छुक हैं। दोनों देशों ने बातचीत के लिए कई दौरों का आयोजन किया है। मुद्दे को सुलझाने के लिए बातचीत की, लेकिन अभी तक कोई खास सफलता नहीं मिली है। साभार-दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स मेंलिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!