ताज़ा खबर :
prev next

फेफड़ों का कैंसर, कैंसर से होने वाली मौतों की अहम वजह है, जानिए डायग्नोसिस, रिस्क और कई चीजें

पढ़िये tv9hindi की ये खास खबर….

फेफड़े का कैंसर दुनिया की सबसे पुरानी बीमारियों में से एक है और आंकड़ों के अनुसार, ये अभी भी दुनिया भर में कैंसर से होने वाली मौतों की वजह है। भारत की बात करें तो 68 में से 1 पुरुष इस ओल्ड हेल्थ रिस्क का शिकार होता है और इस बीच, तकरीबन 80 फीसदी फेफड़ों के कैंसर का डायग्नोसिस एक एडवांस स्टेज में हो जाता है। हालांकि, इस बीमारी के मामले में डेथ काउंट को कम करने के लिए मेडिकल साइंस और हेल्थकेयर फ्रैटर्निटी ने प्रगति की है।

फेफड़ों के कैंसर के मैनेजमेंट के तौर-तरीकों में तेजी से और तेजी से विकास हुआ है। टूल्स से लेकर जल्द डायग्नोसिस को बढ़ाने तक, टार्गेटेड कीमोथेरेपी तक, कैंसर के इलाज के लिए मिनिमम इनवेसिव प्रोसेस तक, स्वास्थ्य सेवा में आज बहुत से हस्तक्षेप हैं जो फेफड़ों के कैंसर के रोगियों की मदद कर सकते हैं।

लेकिन स्मोकिंग कैंसर के हाई रिस्क का कैटालिस्ट और भारत में फेफड़ों के कैंसर के लिए अहम कॉन्ट्रिब्यूटर्स बना हुआ है। तो, सवाल ये है कि अगर भारत की आबादी मौत का धूम्रपान जारी रखती है तो हम बोझ से कैसे निपटेंगे?

छोड़ने से जोखिम कई गुना कम हो सकता है। लेकिन अगर आप पहले से ही धूम्रपान करने वाले हैं, तो फेफड़ों के कैंसर का पता कैसे लगाया जा सकता है?

फेफड़ों के कैंसर के शुरुआती डायग्नोसिस का महत्व

धूम्रपान करने वालों की संख्या का आंकलन उन पैकेटों की संख्या से किया जाता है जो एक व्यक्ति प्रतिदिन धूम्रपान करता है, जितने वर्षों तक धूम्रपान करता है। भारत में, क्यूंकि प्रति पैकेट सिगरेट की संख्या कम है, इसलिए ‘स्मोकिंग इंडेक्स’ जैसे एक अलग टूल्स का अनुमान लगाया जाता है।

पश्चिम में फेफड़ों के कैंसर की जांच के लिए फेफड़ों के कम खुराक वाले सीटी स्कैन को मंजूरी दी गई है, क्योंकि इसने कैंसर का जल्द पता लगाकर जीवित रहने में सुधार दिखाया है. भारत में, हाई स्मोकिंग इंडेक्स वाले लोग अपने हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स के साथ ये देखने के लिए चर्चा कर सकते हैं कि क्या वो स्क्रीनिंग सीटी स्कैन के लिए योग्य हैं।

धूम्रपान की वजह से COPD से पीड़ित लोगों को ज्यादा रिस्क होता है और वो फेफड़ों के कैंसर की जांच के लिए सीटी स्कैन कराने के समय और जरूरत पर चर्चा कर सकते हैं। सर्जरी या कुछ मामलों में स्टीरियोटैक्टिक बॉडी रेडिएशन थेरेपी (एसबीआरटी) फेफड़ों के कैंसर का इलाज जब जल्दी पता चल जाता है।

फेफड़ों के कैंसर की स्टेजिंग अहम है

एक बार फेफड़ों के कैंसर का डायग्नोसिस हो जाने के बाद, अगला महत्वपूर्ण कदम जो उचित रूप से ट्रीटमेंट को गाइड करता है, वो है सटीक स्टेजिंग। इमेजिंग तकनीकें हैं जो गाइड कर सकती हैं कि स्टेजिंग और मॉलेक्यूलर टेस्टिंग के लिए बायोप्सी के जरिए टिश्यू कब और कैसे प्राप्त किया जा सकता है।

फेफड़ों के कैंसर के स्टेप एक से चार स्टेप तक होते हैं, जिसमें कई ऑप्शन भी होते हैं, ताकि कैंसर का पूर्वानुमान लगाया जा सके और उसका बेहतर इलाज किया जा सके. एंडोब्रोनचियल अल्ट्रासाउंड गाइडेड ट्रांसब्रोन्चियल नीडल एस्पिरेशन (ईबीयूएस-टीबीएनए) नामक एक मिनिमम इनवेसिव प्रोसेस अब देश भर में व्यापक रूप से उपलब्ध है जो मिनिमम रिस्क के साथ सटीक स्टेजिंग में मदद करती है।

ये प्रोसेस एक पल्मोनोलॉजिस्ट के जरिए आमतौर पर पीईटी सीटी के बाद की जाती है। ये पूरे ट्रीटमेंट के दौरान और बाद में कैंसर को फिर से ठीक करने में भी मदद कर सकता है।

फेफड़ों के कैंसर में आम समस्याएं

फेफड़ों के एडवांस्ड कैंसर में एक आम समस्या प्लेयुरल स्पेस में फ्लुइड एक्यूमुलेशन है। ये फेफड़ों और छाती की दीवार के बीच की जगह है जहां अगर लिक्विड जमा हो जाता है, तो ये फेफड़ों के विस्तार और सांस फूलने की ओर ले जाता है।

इस खतरे से निपटने के लिए कई तरीके हैं। प्लुरोस्कोपी- एक मेडिकल थोरैकोस्कोपी एक ही सेटिंग में प्लेयुरल इफ्यूजन के डायग्नोसिस और ट्रीटमेंट में मदद कर सकती है. ये एक एंडोस्कोपी सूट में लोकल एनेस्थेसिया और सिडैशन के तहत किया जाता है।

फेफड़ों के कैंसर से बचाव

आखिर में, ये ध्यान रखना बहुत ही जरूरी है कि दर्द और ट्रीटमेंट के प्रोसेस से बचने से रोकथाम बेहतर है। तंबाकू का सेवन छोड़ना प्रभावी है और ऐसे कई तरीके हैं जिनसे हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स लोगों को स्मोकिंग छोड़ने और हेल्दी लाइफ जीने में मदद करते हैं।

लेकिन अगर आप स्मोकिंग करने वाले हैं और लंबे समय से खांसी जो बदतर हो जाती है, छाती में संक्रमण जो वापस आते रहते हैं, खून वाली खांसी, सांस लेने या खांसने में दर्द और लगातार सांस फूलने जैसे लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

साभार-tv9hindi

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!