ताज़ा खबर :
prev next

MP में 24 घंटे में 5 पुल टूटे:सिंध नदी पर बने थे पांचों पुल, दतिया में 3, भिंड और शिवपुरी में एक-एक पुल तिनके की तरह बह गए; दो और खतरे में, ट्रैफिक ठप होने से लगा जाम

पढ़िये दैनिक भास्कर की ये खास खबर….

सिंध नदी ने ग्वालियर-चंबल अंचल में तबाही मचा दी है। पहली बार सिंध नदी का ऐसा रौद्र रूप लोगों ने देखा है। बुधवार सुबह दतिया जिले में सिंध नदी पर बने सेंवढ़ा और भिंड का इंदुर्खी पुल बह गए। इसके बाद दोपहर में शिवपुरी जिले में नरवर-ग्वालियर को जोड़ने वाला मगरौनी पुल का काफी हिस्सा नदी में बह गया। इसके पहले मंगलवार को सिंध नदी के बहाव में रतनगढ़ वाली माता और लांच-पिछोर का पुल भी बह गया था। अब दतिया जिले के गोराघाट, भिंड के मेंहदा घाट का पुल भी खतरे में हैं। दोनों पुलों पर पानी आ गया है।

ककेटो और मड़ीखेड़ा बांध से पानी छोड़े जाने के बाद मंगलवार की दोपहर से लगातार सिंध नदी में पानी बढ़ रहा है। सिंध नदी के उफान पर आने से अब तक दतिया जिले के 3 और भिंड- शिवपुरी जिले में एक- एक पुल टूट चुके हैं। सिंध नदी पर ही मड़ीखेड़ा डैम के नीचे के पुल पर दरार आ गई है।

सिंध नदी की बाढ़ में ढह गए ये पुल

1.लांच-पिछोर पुल- दतिया के लांच कस्बे में सिंध नदी पर बना यह पुल मंगलवार दोपहर 2 बजे बह गया।

2. रतनगढ़ वाली माता पुल- दतिया के प्रसिद्ध रतनगढ़ वाली माता मंदिर जाने पुल मंगलवार को 2.30 बजे सिंध नदी में बह गया। यह वही पुल था, जिस पर 2013 में भगदड़ मचने से 115 श्रद्धालुओं की जान चली गई थी।

3. सेंवढ़ा पुल- दतिया जिले में सिंध नदी पर बना यह पुल भिंड के लहार, मौ को ग्वालियर से जोड़ता था। बुधवार को सुबह करीब 11 बजे बह गया।

4. इंदुर्खी ​​​​पुल- भिंड जिले में सिंध नदी पर बना यह पुल रौन-अमायन को जोड़ता था। बुधवार की सुबह 11:30 बजे तिनके की तरह बह गया।

5. मगरौनी ​​​​पुल- शिवपुरी जिले में सिंध नदी पर स्थित यह पुल नरवर कस्बे और ग्वालियर को जोड़ता था। यह बुधवार दोपहर करीब 1 बजे के बह गया।

बीहड़ में नाव नहीं चलती, रेस्क्यू मुश्किल
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कलेक्टर और SP से चंबल और सिंध नदी के जलस्तर की जानकारी ली है। यहां सबसे बड़ी परेशानी यह है कि बीहड़ में पानी भरने पर नाव नहीं चलाई जा सकती। रेस्क्यू करने के दौरान भी बेहद सतर्कता बरतनी होती है, ऐसे में रेस्क्यू ऑपरेशन बेहद मुश्किल है।

सिंध नदी के गोराघाट के पुल पर ग्वालियर से झांसी जाने वाला ट्रैफिक रोका गया।

गांवों में लोगों के घर खाली कराए जा रहे
सिंध और चंबल नदी के किनारे के पर्रायच, इंदुर्खी, गिरवासा, रेंमजा, महायर गांवों को खाली कराया जा रहा है। दतिया जिले के सेंवढ़ा नगर में निचली बस्ती को खाली कराया जा चुका है। वहीं चंबल किनारे के अटेर, चौम्हो, नावली वृंदावन, खैरहट गांव में पानी आ गया है। मुशावली गांव से एक बुजुर्ग को रेस्क्यू किया गया है। इसके अलावा भारौली पुलिस ने बाढ़ में फंसे एक परिवार को सुरक्षित निकाला है।

रेस्क्यू का काम आर्मी और NDRF के हवाले
भिंड SP मनोज कुमार सिंह ने कहा कि सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर लिए गए हैं। हर थाने की पुलिस गांवों में तैनात की जा चुकी है। NDRF और आर्मी को भी बुलाया जा रहा है। यदि किसी को कोई परेशानी है, तो वह पुलिस कंट्रोल रूम में सूचित कर सकता है। रेस्क्यू के लिए टीमें तैनात की जा चुकी हैं।

भारौली पुलिस ने रेस्क्यू कर एक परिवार को सुरक्षित निकाला।

शिवपुरी में धसकी सड़क, पलटा ट्रक
शिवपुरी-ग्वालियर फोरलेन बायपास की सड़क धसक गया। यह सड़क हाल ही में बनी थी। महाराष्ट्र से पशु आहार लेकर आ रहे ट्रक के वजन सड़क नहीं झेल पाई। सड़क में 10 फ़ीट से ज्यादा गहरा गड्ढा हो गया और ट्रक उसमें जा गिरा। हादसा लगातार बारिश होने की वजह बताया जा रहा है। हादसे के बाद सड़क पर और भी कई दरारें नजर आ रही हैं, जिससे इस सड़क के धसकने की आशंका अभी भी बनी हुई है। अभी तक न तो हाईवे प्रबंधन ने कोई सुध ली है और न ही पुलिस ने मामले में कोई कायमी की है। जबकि हादसे को करीब 20 घंटे बीत चुके हैं। साभार-दैनिक भास्कर

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!