ताज़ा खबर :
prev next

महिला से दुष्कर्म में दिल्ली पुलिस के सेवानिवृत्त एएसआइ को आजीवन कारावास की सजा

पढ़िए दैनिक जागरण की ये खास खबर…

गाजियाबाद। फास्ट ट्रैक कोर्ट- एक के न्यायाधीश जयवीर सिंह नागर की अदालत ने एक महिला से दुष्कर्म के मामले में बृहस्पतिवार को दिल्ली पुलिस के सेवानिवृत एएसआइ को आजीवन कारावास की सजा सुनाई और उस पर 42 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है। इनमें से 21 हजार रुपये महिला को देने होंगे।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता आदेश त्यागी ने बताया कि दिल्ली के शाहदरा थानाक्षेत्र में रहने वाली एक महिला का 2008 में पति और देवर से झगड़ा हो गया था। जिसकी शिकायत उसने पुलिस कंट्रोल रूम में फोन कर दी थी, उस वक्त दिल्ली पुलिस में तैनात एएसआइ प्रीतम सिंह मामले की जांच के लिए महिला के घर पहुंचा। आरोप था कि प्रीतम सिंह ने महिला के पति और देवर से साठगांठ कर ली और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के बजाय महिला के खिलाफ ही केस झगड़ा और मारपीट करने का केस दर्ज करवा दिया।

सात दिन बाद इस मामले की जांच के लिए वह महिला के घर पहुंचा और पिस्टल के बल पर उससे दुष्कर्म किया। विरोध करने पर जान से मारने की धमकी दी। महिला ने मामले की शिकायत की लेकिन पुलिस ने उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं की। उल्टा एएसआइ प्रीतम सिंह महिला के घर जाकर उसका यौन शोषण करता रहा। परेशान होकर महिला ने दिल्ली से पलायन कर गाजियाबाद के कविनगर (वर्तमान में मधुबन बापूधाम) थानाक्षेत्र में रहने लगी।

12 अप्रैल 2014 को प्रीतम सिंह महिला को ढूंढते हुए उसके घर पहुंचा और यहां उससे दुष्कर्म किया। इस मामले की शिकायत उस वक्त कविनगर थाने में की गई, पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर दिल्ली के मानसरोवर पार्क निवासी सेवानिवृत एएसआइ प्रीतम सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा। मामले की सुनवाई और एफटीसी-एक की कोर्ट में हुई और सात साल बाद सजा सुनाई गई।

साभार : दैनिक जागरण

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad

         हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!