ताज़ा खबर :
prev next

गाजियाबाद: 5 लाख रुपए लूटने के लिए नौकर ने ही की थी बाप-बेटे की हत्या

गाजियाबाद। ट्रोनिका सिटी थाना क्षेत्र के कासिम विहार में घर में घुसकर फर्नीचर कारोबारी और उनके मासूम बेटे की हत्या की वारदात का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। इस हत्याकांड को कारोबारी के गोदाम पर काम करने वाले नौकर एवं रिश्ते के भतीजे ने अंजाम दिया था। पुलिस का कहना है कि आरोपी ने घर में रखे पौने 4 लाख रुपए की रकम को लूटने की नीयत से पिता-पुत्र की हत्या की, लेकिन आरोपी को घर से केवल 15 हजार रुपए ही मिले थे।

मूलरूप से जनपद संभल के गांव थाना धनारी निवासी नईमुल करीब सात साल से कासिम विहार कॉलोनी में पत्नी साइमा और चार बच्चों के साथ रह रहे थे। नईमुल हसन पड़ोस में रहने वाले दो भाइयों ममनून और जंजरहसन के साथ रामपार्क कॉलोनी में फर्नीचर का काम करते थे। उनकी पत्नी साइमा अपन्ती बेटी खुशी, इलमा और बेटे फरहान को लेकर रिश्तेदारी में बिहार गई थीं जबकि नईमुल बेटे उवैस के साथ घर पर रुक गए थे।

15 सितंबर सुबह कारोबारी और उनके आठ वर्षीय बेटे उवेश के शव घर के कमरे में चारपाई पर पड़े मिले थे। दोनों की निर्मम तरीके से हत्या की गई थी। मृतक के भाई ममनून ने बताया कि उनका बेटा अरबाज 16 सितंबर की सुबह जब हेलमेट लेने नईमुल के घर गया तो मुख्य दरवाजा खुला हुआ था। अंदर जाकर देखा तो उसने पिता-पुत्र के लहूलुहान शव पड़े थे। उसने परिजनों को इसकी जानकारी दी, जिसके बाद चीख-पुकार सुनकर पड़ोसी आ गए।

पिता-पुत्र की हत्या के मामले में पुलिस ने मृतकों के परिजनों से कई राउंड पूछताछ की। परिजनों से पारिवारिक और व्यापारिक रंजिश के बारे में पूछा गया। लेकिन किसी तरह की कोई रंजिश सामने नहीं आई। इसके अलावा पुलिस ने मृतक नईमुल हसन और उनकी पत्नी के अवैध संबधों के एंगल पर भी जांच पड़ताल की, लेकिन इस दिशा में भी पुलिस को कोई क्लू हाथ नहीं लग सका। इसके बाद पुलिस ने बदायूं के बिल्सी थानाक्षेत्र के ग्राम मिर्जापुर सोहरा निवासी मोहम्मद मेरोज से पूछताछ की तो उसकी गतिविधि संदिग्ध लगी। जिसके बाद उससे सख्ती से पूछताछ में उसने रुपये लूटने के इरादे से कारोबारी और उनके बेटे की हत्या कबूल ली।

एसपी ग्रामीण डा. ईरज राजा ने बताया कि मेरोज रिश्ते में नईमुल हसन का भतीजा लगता है और बीते कुछ सालों से वह नईमुल के कासिम विहार स्थित गोदाम पर रहकर पुराने फर्नीचर का काम देखता था। मेरोज को पता था कि नईमुल की पत्नी तीन बच्चों के साथ रिश्तेदारी में गई हुई है। योजना के मुताबिक वह 15 सितम्बर की रात करीब साढ़े 9 बजे नईमुल के घर पहुंच गया था। उसने नईमुल से कहा कि उसके पिता बदायूं से उसे लेने यहां आए हैं। वह उसे अपने साथ गांव ले जाना चाहते हैं लेकिन वह काम छोडक़र पिता के साथ जाना नहीं चाहता। रिश्ते का भतीजा होने के नाते नईमुल ने मेरोज को अपने ही घर में सोने की इजाजत दे दी। एसपी ने बताया कि मेरोज की मंशा देर रात को ही नईमुल की हत्या कर घर में रखी रकम लूटने की थी लेकिन नईमुल देर रात तक टीवी देखता रहा। इस दौरान मेरोज को गहरी नींद आ गई और वह रात में अपनी योजना को अमलीजामा नहीं पहना सका।

तडक़े करीब 6 बजे अजान की आवाज को सुनकर वह उठा और चारपाई पर सो रहे नईमुल के सिर पर पंखे की बॉडी से वार कर दिए। इससे पहले की नईमुल उसका विरोध कर पाता मेरोज ने चाकू से उसका गला रेत दिया। बाद में उसने नईमुल के पेट पर चाकू से कई वार कर मौत की नींद सुला दिया। हत्या के दौरान मची चीखपुकार को सुनकर पास में सो रहा मासूूम उबैश जाग गया था। उबैश मेरोज को पहचानता था। पिता का खून होता देख उबैश की चीख निकल पड़ी। इस पर मेरोज ने उसका मुंह दबाया और चाकू से गला रेत कर उसे भी मौत के घाट उतार दिया। मेरोज ने पुलिस को बताया कि उसने पहचान उजागर होने के डर से ही उबैश की भी हत्या की।

एसपी ग्रामीण ईरज राजा का कहना है कि नईमुल और पड़ोस में रहने वाले उसके दो भाई पुराने फर्नीचर की खरीद बिक्री का काम करते हैं। कारोबारी लेन-देन में कुछ दिनों पूर्व नईमुल हसन के पास पौने 5 लाख रुपए की रकम आई थी। जिसमें से 50-50 हजार रुपए नईमुल के दो भाइयों के थे। बाकी पौने 4 लाख रुपए की रकम नईमुल ने अपने घर ले जाकर रख ली थी। मकान बनाने के दौरान नईमुल ने अपने बड़े भाई से कुछ पैसे उधार लिए थे। अपनी पौने 4 लाख रुपए की रकम में से वह पैसे नईमुल ने चुकता कर दिए। लेकिन हत्यारोपी नौकर मेरोज को नईमुल के घर में पौने 4 लाख रुपए रखे होने की जानकारी थी।

एसपी ग्रामीण ने बताया कि इसी रकम को लूटने के लिए उसने योजना बनाई और पिता-पुत्र की हत्या के बाद उसने घर की अलमारियों को खंगाला तो उसे महज 15 हजार रुपए ही मिले। जिन्हें लूट कर वह फरार हो गया था। पुलिस का कहना है कि घटना के बाद 1 लाख रुपए की रकम पुलिस को तलाशी के दौरान नईमुल के घर से ही बरामद हो गई थी। बरामद रकम को परिजनों के हवाले किया गया था। पुलिस ने लूटी गई रकम में से 12 हजार रुपए, मृतक का मोबाइल और घटना के दौरान आरोपी द्वारा पहने गए खून से सने कपड़े बरामद कर लिए हैं।

आपका साथ – इन खबरों के बारे आपकी क्या राय है। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं। शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें। हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें। हमसे ट्विटर पर जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए।

हमारा गाजियाबाद के व्हाट्सअप ग्रुप से जुडने के लिए यहाँ क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!