ताज़ा खबर :
prev next

अयोध्या मामला – मौलाना सलमान नदवी ने सुझाया बीच का रास्ता तो बर्खास्त किया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने

हैदराबाद | राम मंदिर पर सुलह का फॉर्मूला सुझाने वाले मौलाना सलमान नदवी को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। सलमान नदवी ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का समर्थन किया था और मस्जिद को दूसरी जगह शिफ्ट करने का फॉर्मूला सुझाया था, इस प्रस्ताव के बाद से ही बोर्ड उनसे नाराज था। हैदराबाद में बोर्ड की तीन दिवसीय बैठक के दौरान यह फैसला लिया गया। नदवी बोर्ड के एग्जीक्यूटिव सदस्य थे लेकिन मीटिंग में न आकर उन्होंने श्री श्री रविशंकर से मुलाकात की।

माना जा रहा है कि मौलाना सलमान नदवी के खिलाफ AIMPLB की कार्रवाई से कोर्ट के बाहर राम मंदिर विवाद को सुलझाने की कोशिश को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, शुक्रवार को AIMPLB की बैठक से पहले मौलाना सलमान नदवी ने राम मंदिर निर्माण को लेकर एक प्रस्ताव रखा था। इसमें उन्होंने बातचीत कर अयोध्या विवाद सुलझाने और मस्जिद के लिए कहीं और जमीन लेने का प्रस्ताव दिया था। नदवी के इस बयान के बाद काफी विवाद हुआ था।
राम जन्मभूमि विवाद पर आज से सुप्रीम कोर्ट में रोजाना सुनवाई होनी थी। सुप्रीम कोर्ट में दोपहर 2 बजे सुनवाई शुरू हो गई थी. इसके पहले कोर्ट ने कहा था कि अब अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद मुकदमें की सुनवाई रोजाना सुप्रीम कोर्ट में होगी। इसके लिए हिंदू और मुस्लिम पक्ष के वकीलों ने तैयारी पूरी कर ली है। 2.77 एकड़ भूमि का ये विवाद राजनीतिक अखाड़े का केंद्र भी है। इसके पहले कोर्ट ने कहा था कि 8 फरवरी के बाद सुनवाई नहीं टलेगी। सबसे पहले ओरिजनल टाइटल सूट दाखिल करने वाले दलीलें रखेंगे, फिर बाकी अर्जियों पर बात होगी। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने कहा कि इसे भूमि विवाद की तरह ही देखा जाये। अनुवाद अधूरा होने के कारण फ़िलहाल सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को 14 मार्च को सुनवाई के लिए टाल दिया है।


आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।