ताज़ा खबर :
prev next

दहेज हत्या में पति समेत सास-ससुर को 10 साल की जेल

गाज़ियाबाद। दहेज हत्या के मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-5 जगमोहन प्रसाद की अदालत ने पति समेत सास, ससुर को 10 साल कारावास की सजा सुनाई। तीनों दोषियों पर छह-छह हजार रुपये जुर्माना भी लगाया गया है।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता प्रमोद तंवर व संदीप डबास ने बताया कि मेरठ के ब्रहमपुरी इलाके में रहने वाली नूरजहां ने बेटी शमा परवीन की शादी दो अप्रैल 2010 में साहिबाबाद थानाक्षेत्र के पसौंडा में रहने वाले मंजूर के बेटे शौकीन से की थी। आरोप है कि शादी के बाद से ही दहेज में पल्सर व एक लाख रुपये की मांग को लेकर शमा परवीन को प्रताड़ित किया जाने लगा। मजबूर होकर नूरजहां ने बेटी के ससुराल वालों को दो बारी में 50 हजार रुपये दिए।

आरोप है कि दहेज की मांग पूरी न होने पर 28 अगस्त 2010 को शमा परवीन की जहर देकर हत्या कर दी। इस मामले में नूरजहां ने मृत बेटी के पति शौकीन, ससुर मंजूर, सास बिल्लो, ननद रूबीना व ननदोई असलम को नामजद कराया। सहायक जिला शासकीय अधिवक्ताओं के मुताबिक ननद-ननदोई के दिल्ली में रहने व साक्ष्यों को अभाव में अदालत ने उन्हें बरी कर दिया। दोनों पक्षों को सुनने के बाद सोमवार को अदालत ने शौकीन, मंजूर व बिल्लों को दहेज हत्या में 10-10 साल कारावास की सजा सुनाने के साथ जुर्माना भी लगाया। इसके अलावा अन्य धाराओं में अलग-अलग सजा सुनाई गई।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।