ताज़ा खबर :
prev next

प्यार में मिला धोखा, नवजात शिशु को अस्पताल में छोड़ फरार हुई बिन ब्याही माँ

गाज़ियाबाद। प्यार में धोखा खाने के बाद एक युवती का दिल पत्थर हो गया। नौ महीने तक कोख में पलने वाले शिशु को अस्पताल में प्रसव के बाद वह छोड़ गई। अस्पताल प्रबंधन ने गुपचुप तरीके से प्रसव कराने के 12 घंटे बाद बाल कल्याण समिति को अनाथ दुधमुंही बच्ची के बारे में जानकारी दी। इसके बाद सरकारी महकमा हरकत में आया और एक दिन के नवजात को जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया। युवती मेरठ रोड की एक कॉलोनी की रहने वाली है।

बाल कल्याण समिति को मिले युवती के शपथ पत्र के अनुसार युवती को एक युवक से प्यार हो गया। नजदीकियां बढ़ने से वह गर्भवती हो गई। गर्भवती होने के बाद प्रेमी ने उसे धोखा दे दिया। इससे वह हैरान-परेशान रहने लगी। युवती ने परिवार वालों से इसे छुपाकर रखा। दो दिन पहले प्रसव पीड़ा होने पर युवती को नंदग्राम के एक चैरिटेबल अस्पताल में भर्ती कराया गया।

अस्पताल में मंगलवार रात 8:30 बजे युवती ने एक बच्ची को जन्म दिया। कुंवारी युवती द्वारा बच्ची को जन्म देने के मामले में अस्पताल प्रशासन की लापरवाही सामने आई है। बाल कल्याण समिति का कहना है कि बुधवार सुबह 8:30 बजे अस्पताल की नर्स ने फोन कर बाल कल्याण समिति को नवजात के बारे में जानकारी दी।

बाल कल्याण समिति गाजियाबाद के संयोजक आरिफ खान ने बताया कि टीम के सदस्यों ने बच्ची को निजी अस्पताल से गोद लेकर महिला अस्पताल में भर्ती कराया, जहां बच्ची की हालत सामान्य है। संयोजक आरिफ खां ने बताया कि अस्पताल में बच्ची की मां के बारे में पता नहीं चल सका है। अस्पताल में भर्ती के समय लड़की के साथ आए लोगों ने फर्जी फोन नंबर और नाम लिखवाए थे। फोन नंबर लगातार बंद जा रहा है। अस्पताल प्रशासन से इसके बारे में पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।