ताज़ा खबर :
prev next

खोया में मिला डिटर्जेंट तो दर्ज होगा मुकदमा

गाज़ियाबाद। जिले में खाद्य पदार्थ में मिलावट का धंधा बंद नहीं हो रहा है। खाद्य सुरक्षा विभाग द्वारा कराई गई जांच में मिठाई बनाने में इस्तेमाल होने वाले खोया में डिटर्जेंट व स्किम्ड मिल्क पाउडर की मिलावट पाई गई है। रेफरल लैब कोलकाता की जांच के बाद रिपोर्ट जिला मुख्यालय पर पहुंच गई है। मामले में एसीजेएम कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी की जा रही है।

इसके अलावा बीते वर्ष अलग-अलग स्थानों से लिये गए आधा दर्जन खाद्य पदार्थ जांच में अधोमानक पाए गए हैं। एडीएम सिटी की कोर्ट में आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया। मामले में कोर्ट ने डेढ़ लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। बीते वर्ष अगस्त महीने में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने मुरादनगर के कलछीना गांव से खोया का नमूना लिया था। नमूने को जांच के लिए राजकीय लैब लखनऊ भेजा गया, जहां से सब स्टैंडर्ड की रिपोर्ट आई। रिपोर्ट को चेलेंज कर रेफरल लैब से जांच की मांग की गई। इस पर विभाग की ओर से कोलकाता स्थित सेंट्रल लैब भेजकर जांच कराई गई। जांच रिपोर्ट सोमवार को विभाग को मिली। इस बार रिपोर्ट अनसेफ आई है। अनसेफ यानि स्वास्थ के लिए हानिकार।

रिपोर्ट के अनुसार खोया में वनस्पति ऑयल, डिटर्जेंट पाउडर एवं स्किम्ड मिल्क पाउडर की मिलावट पाई गई है। जिला अभिहित अधिकारी राजेश कुमार अग्रहरि ने बताया कि मामले में एसीजेएम कोर्ट में मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। ऐसे मामले में कारावास के साथ जुर्माने का प्रावधान है। मुकदमा दर्ज कराने के लिए अनुमति के लिए आयुक्त खाद्य सुरक्षा को पत्र लिखा जा रहा है। उधर एडीएम सिटी की कोर्ट में चल रहे आधा दर्जन मुकदमें में सभी में जुर्माने की सजा सुनाई गई है। यह सभी खाद्य पदार्थ अधोमानक पाए गए हैं।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।