ताज़ा खबर :
prev next

पढ़िये इस महिला की सफलता के किस्से जिसकी उंगलियों पर नाचता है नई दिल्ली रेलवे स्टेशन

नई दिल्ली। कहते हैं सपने देखना बहुत जरूरी होता है। वो सपने ही होते हैं जो हमें कुछ कर गुजरने का हौसला देते हैं। ऐसा ही एक सपना कनिका मल्होत्रा ने देखा था और आज वो नई दिल्ली रेलवे स्टेशन की स्टेशन मास्टर हैं।

दिल्ली की ही रहनेवाली कनिका ने दिसम्बर 2017 में स्टेशन मास्टर के पद को संभाला था और तब से वहीं कार्यरत हैं। कनिका स्वाधीनता से अपना जीवन जीती हैं और दूसरों को भी स्वाधीन बनने की ही नसीहत देती हैं। अपने जीवन में कड़ी मेहनत की और आज वो जिस मुकाम पर हैं उसके लिए उनकी जितनी तारीफ़ की जाए, कम है। शादी के बाद कनिका ने अपनी नौकरी जारी रखी जिसमें उनके घरवालों ने भी उनका समर्थन किया।

उनके मुताबिक महिलाओं का अपने पैरों पर खड़े होना बहुत जरुरी है। 2006 में 12वीं की परीक्षा के बाद ही उन्होंने खुद कुछ करने का मन बना लिया था। पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद आज राजधानी के सबसे बड़े स्टेशनों में से एक नई दिल्ली में स्टेशन मास्टर होने पर उन्हें गर्व महसूस होता है।ज़िन्दगी संघर्षों से भरी है और कनिका इस बात को बखूबी समझती हैं। कनिका की एक छोटी बेटी भी है। 4 साल के बेटी को स्कूल छोड़ जब वो दफ्तर के लिए आती हैं तब उनकी बेटी को घर पर दादी और नानी संभालती हैं।
कनिका का कहना है कि नौकरी करने में परिवार के सहयोग की जरुरत होती है और उन्हें उनके परिवार से पूरा सहयोग मिलता है। कनिका की मानें तो पढाई-लिखाई किसी भी आम महिला के लिए बहुत जरूरी है। पढ़े-लिखे होने पर ही समाज की कुरीतियों को बदला जा सकता है। महिला सशक्तिकरण के लिए लोगों को बेटियों को अच्छी शिक्षा देनी चाहिए।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।