ताज़ा खबर :
prev next

महाराष्ट्र के किसानों ने खत्म किया आंदोलन, सरकार ने मान ली अधिकतर मांगें

मुंबई | सोमवार को मुंबई में किसानों और मुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस के बीच हुई मुलाक़ात के बाद किसानों ने अपना आंदोलन वापिस ले लिया है। मुलाक़ात के बाद मुख्‍यमंत्री ने कहा, ”हमने उनकी (किसानों) अधिकतर मांगें मान ली हैं और उन्‍हें लिखित पत्र दिया है।” पिंक बोल कीड़े और ओलों से प्रभावित किसानों को महाराष्‍ट्र सरकार मुआवजा देगी। किसानों ने खेती की खस्ता हालत को लेकर बीते 10 महीनों में दूसरी बार राज्य सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला और विधानसभा तक विरोध मार्च किया। इस मार्च में पुरुषों, महिलाओं, युवाओं और बुजुर्गों सहित 35,000 से अधिक किसानों ने छह दिनों से ज्यादा समय में 180 किलोमीटर लंबे मार्च को पूरा किया। अखिल भारतीय किसान सभा (एआईकेएस) की ओर से आयोजित इस मार्च में मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के किसान धड़े के किसान लाल टोपी पहने, हाथों में लाल झंडे लिए ड्रम बजाते हुए शामिल हुए।

किसानों की योजना को देखते हुए सरकार ने किसानों के साथ सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए आनन-फानन में छह सदस्यीय मंत्रिमंडलीय समिति गठित की थी। किसानों के नेता अजीत नवाले ने बताया था कि उनकी प्रमुख मांगों में जून 2017 में घोषित हुए किसान ऋण माफी को लागू करना है, जिससे किसान पूरी तरह से कर्जमुक्त हो सकें।

क्या आपका जल्दी पहुँचना इतना जरूरी है? जरा सोचिए !

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel