ताज़ा खबर :
prev next

पेयजल समस्या को लेकर भड़की महिलाएं, हंगामा

गाज़ियाबाद। पिछले तीन सप्ताह से पानी की किल्लत से जूझ रहे सीकरी रोड स्थित सी लाइन कॉलोनी के लोगों का सब्र का बांध सोमवार को टूट गया। गुस्सायी मोहल्ले की दर्जनों महिलाएं मोदी स्टील कार्यालय पर पहुंची और पानी की सप्लाई चालू कराने को लेकर हंगामा करने लगीं। महिलाओं ने करीब तीन घंटे तक अधिकारियों का घेराव किया। हंगामे की सूचना पर पूर्व विधायक सुदेश शर्मा भी मौके पर पहुंच गए। इसके बाद मिल प्रबंधन ने आननफानन में कॉलोनी की पेयजल आपूर्ति चालू कराई जिसके बाद हंगामा कर रहे लोग शांत होकर लौट गए।

सभासद के पति सप्पू गुर्जर के मुताबिक 20-25 दिन पूर्व मोदी स्टील प्रबंधन ने कॉलोनी की पेयजल आपूर्ति अचानक बंद कर दी थी। तभी से कॉलोनी के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। कॉलोनी के लोगों ने कई बार पानी चालू किए जाने की मांग की लेकिन मिल प्रबंधन बार बार उन्हें बहकाता रहा। सोमवार को कॉलोनी की महिलाओं का गुस्सा फूट पड़ा। दर्जनों महिलाएं सुबह 11 बजे हाईवे स्थित मोदी स्टील कार्यालय पहुंची और प्रबंधकों के खिलाफ नारेबाजी की।

इस बीच महिलाओं की कार्यालय में मौजूद मैनेजर (प्रशासनिक एंड कानून) नवाब अली और मनीष नारंग के साथ बहस हुई। महिलाओं ने मिल प्रबंधकों पर अभद्रता करने का आरोप लगाते हुए कार्यालय में हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और हंगामा कर रहे लोगों को शांत करने का प्रयास करने लगी। पूर्व विधायक सुदेश शर्मा भी मोदी स्टील के कार्यालय पहुंचे गए और उन्होंने मिल प्रबंधन को लोगों की मूलभूत सुविधाओं बंद करने को लेकर जमकर फटकार लगाई। इसके बाद मिल प्रबंधक नवाब अली और मनीष नारंग ने दो घंटे में पानी चालू कराने का आश्वासन दिया। इसके बाद हंगामा करने वाले शांत हुए। मिल प्रबंधक नवाब अली ने पानी की आपूर्ति काटे जाने से इंकार करते हुए बताया कि ट्यूबवेल खराब होने के कारण पेयजल आपूर्ति बाधित थी।

ट्यूबवेल और मोटर पुराने होने के कारण उसके पार्ट मिलने में समय लग गया। अवैध खाद प्लांट को लेकर होगा आंदोलन पूर्व विधायक सुदेश शर्मा ने कहा कि नियमों को ताक पर रखकर मिल प्रबंधन लोगों के जीवन से खिलवाड़ कर रहा है। मिल परिसर स्थित खाद की गंदगी और बदबू से लोगों को जीना बेहाल है और इसमें कीड़े भी हो गए हैं जो पानी के जरिये लोगों के घरों में पहुंच रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि 15 दिन में प्लांट बंद नहीं किया गया तो वे इसके लिए आंदोलन छेड़ेंगे।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।