ताज़ा खबर :
prev next

पुलिस की मिलीभगत से चल रहा अवैध शराब का गोरखधंधा

गाज़ियाबाद। खोड़ा में पुलिस की मिलीभगत से अवैध शराब का कारोबार फल फूल रहा है। घर-घर में कच्ची शराब बनाई जा रही है। खोड़ा की गलियों में 50 से अधिक अवैध शराब की दुकानें खुली हुई हैं। खास बात यह है कि इन दुकानों पर बच्चे, दिव्यांग और महिलाएं शराब बेचने का काम कर रही हैं। शाम होते ही दुकानों के बाहर जमघट लगना शुरू हो जाता है। पुलिस प्रति दुकान से हर माह दस हजार रुपये कमीशन वसूल रही है। यही वजह है कि अवैध शराब का कारोबार करने वाले बेखौफ हैं।
खोड़ा के लोगों का कहना है कि पुलिस की मिलीभगत के कारण ही शराब माफिया यहां अवैध शराब बेचकर लोगों की जान से खिलवाड़ कर रहे हैं। उनकी शिकायत पर पुलिस अवैध शराब बेचने वालों को पकड़कर ले तो जाती है लेकिन बिना कार्रवाई किए ही कुछ देर बाद उन्हें छोड़ देती है। पुलिस का हर शराब की दुकान पर हर माह 8-10 हजार रुपये का कमीशन बंधा हुआ है। कई ऐसे वीडियो भी वायरल हुए हैं जिनमे पुलिस वाले शराब माफिया से रुपये लेते नजर आ रहे हैं।

नगर पालिका अध्यक्ष रीना भाटी ने घेरा था थाना
खोड़ा की गलियों में खुली अवैध दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की कई बार मांग की गई, लेकिन पुलिस और प्रशासन ने कोई सख्त कदम नहीं उठाया। लोग धरना प्रदर्शन कर थक चुके हैं। हाल ही में शराब की अवैध दुकानों को बंद करने की मांग को लेकर नगरपालिका अध्यक्ष रीना भाटी ने समर्थकों के साथ थाना खोड़ा का घेराव किया था लेकिन पुलिस की ओर से कोई कदम नहीं उठाया गया।

जब से दुकानें खुली तब से कर रहे हैं बंद की मांग
निवासी विनोद कुमार बिहारी ने बताया कि खोड़ा में निम्न तबके के लोग ज्यादा रहते हैं। कम पैसे में शराब उन्हें इन दुकानों से मिल जाती है। इस कारण वह इन दुकानों के स्थायी खरीदार बन गए हैं। उन्होंने बताया कि जब से दुकानें खुली है तब से इन्हें बंद करने की मांग की जा रही है, लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही।

 

अगर पुलिस ही ऐसे अपराधों में अपराधियों का साथ देगी तो आम जनता मदद के लिए किसके पास जाएगी।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।