ताज़ा खबर :
prev next

आठ साल की नौकरी में 19वां तबादला, यही पहचान काफी है गाज़ियाबाद के नए एसएसपी वैभव कृष्ण की

गाज़ियाबाद | एक पुलिस अधिकारी सत्ताधारी दल के एक मंत्री के साले को गिरफ्तार करता है। मंत्री जी अगले ही दिन पुलिस अधिकारी का तबादला करा देते हैं लेकिन तबादले के खिलाफ क्षेत्र की जनता सड़कों पर उतार आती है और सरकार पर तबादले का आदेश वापस लेने का दबाव बनती है। यदि हमारे पाठकों को लग रहा है कि हम किसी फिल्म के दृश्य की बात कर रहे हैं तो आप गलत हैं। हम किसी फिल्म की नहीं बल्कि गाज़ियाबाद के नए एसएसपी वैभव कृष्ण के शानदार करियर से आपका परिचय करा रहे हैं।

अपराधियों और भू-माफिया से निकटता, चौकियों से लेकर थानों तक व्याप्त भ्रष्टाचार और महिलाओं के प्रति निरंतर बढ़ते अपराध जैसे आरोपों से घिरी गाज़ियाबाद पुलिस की छवि सुधारने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिले को अब ऐसा पुलिस अधिकारी दिया है जिसकी ईमानदारी और कर्तव्यपरायणता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि केवल 8 साल के कार्यकाल के दौरान यह उनका 19वां तबादला है।

हम बात कर रहे हैं 2010 बैच के आईपीएस अधिकारी वैभव कृष्ण की जो समाजवादी सरकार में एक मंत्री के करीबी रिश्तेदार को गिरफ्तार करने के बाद चर्चा में आए थे। वैभव आज शाम को गाज़ियाबाद के नए एसएसपी का चार्ज ले रहे हैं। गाज़ियाबाद में नियुक्ति से पहले वे इटावा में तैनात थे। वैभव की छवि एक ऐसे पुलिस अधिकारी की है जो काम करते समय किसी राजनीतिक दबाव की चिंता करता है यही कारण है कि अब तक उनकी जहां भी नियुक्ति हुई है, वहाँ की जनता को उनकी आज तक कमी खलती है। हालांकि बुलंदशहर में उनकी तैनाती के दौरान बलात्कार कांड के बाद हुआ उनका सस्पेंशन वैभव के करियर पर एक दाग की तरह है मगर यह भी सच है कि उनके सस्पेंशन के बाद बलात्कार की पीड़िता और उसके परिवार ने खुद मुख्य मंत्री को पत्र लिखकर वैभव को बेदाग और ईमानदार बताया था।

देखना यह होगा कि वैभव कृष्ण को गाज़ियाबाद की स्थिति सुधारने में कितना समय लगता हैं क्योंकि गाज़ियाबाद में बढ़ते अपराधों का सबसे बड़ा कारण ही अपराधियों को पुलिस और राजनेताओं से अब तक मिलता संरक्षण है। हमारा गाज़ियाबाद की टीम गाज़ियाबाद के जागरूक नागरिकों की ओर से वैभव कृष्ण को पूर्ण सहयोग का आश्वासन देती और भरोसा दिलाती है कि गाज़ियाबाद को बेहतर बनाने के लिए हम हमेशा की तरह आपके आँख, नाक और कान बनकर काम करेंगे।

क्या आपका जल्दी पहुँचना इतना जरूरी है? जरा सोचिए !

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel