ताज़ा खबर :
prev next

शर्मनाक: महिला को पेड़ से बांधकर बेरहमी से पीटा, तीन आरोपी गिरफ्तार

गाज़ियाबाद। यूपी के बुलंदशहर में हुई एक शर्मनाक घटना सामने आई है। प्यार करने के गुनाह में एक महिला को पंचायत में सरेआम रूह कंपाने वाली सजा दी गई। पहले महिला को जबरन खींचकर पंचायत में लाया गया, फिर उसके हाथ बांधकर पेड़ से लटका दिया गया और उसे जमकर यातनाएं दी गईं। हैवान पति ने उसे अधमरा होने तक पीटा। समाज के ठेकेदार बने पंचों और पति ने योगीराज में कानून को भी सूली पर लटका दिया। उन्होंने बेखौफ होकर इज्जत के नाम पर महिला के हक में तालिबानी सजा सुनाई। इतना ही नहीं महिला के साथ गंदी हरकतें भी की गईं। हैवानियत की हदों को लांघती घटना का वीडियो वायरल होने पर पुलिस हरकत में आ गई और एफआईआर के बाद हैवान पति सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

पंचायत के तुगलकी फरमान का यह मामला स्याना थाना क्षेत्र के लोंगा गांव का है। पुलिस रिपोर्ट व सामने आ रही जानकारी के मुताबिक बीते 10 मार्च की सुबह 7 बजे ही एक चौपाल पर पंचायत लग गई। जिसमें पंचों ने एक महिला को सजा देने का तुगलकी फरमान जारी कर दिया। पंचायत में गांव की एक महिला को खींचकर लाया गया। उसके हाथ बांधकर पेड़ से लटका दिया गया। इसके बाद महिला के पति शौदान सिंह ने बैल्ट से उसे जमकर पीटा। महिला को पीटने में उसने अपनी पूरी ताकत लगा दी। महिला बचाव के लिए चिल्लाकर झटपटाती रही, लेकिन पंचायत में मौजूद गांव के लोग हाथ बांधे तमाशा देखते रहे। पिटते-पिटते महिला बेहोश हो गई। तब जाकर उसे छोड़ा गया। पंचायत और पीटने की शर्मनाक घटना सुबह 7 बजे से 2 बजे तक चली।

पंचायत में महिला की पिटाई का वीडियो गांव के युवक ने बना लिया था। वह वायरल हो गया। महिला के साथ बर्बरता का वीडियो पुलिस तक पहुंचा। मामले की गूंज लखनऊ तक पहुंची, तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में पुलिस ने पीड़ित महिला को खोज निकाला। बताया जा रहा है पिटाई से अधमरी हुई महिला चंद रोज पहले ही अस्पताल से डिस्चार्ज होकर आयी थी। पुलिस ने उसकी तहरीर के आधार पर पति शौदान सिंह, पूर्व ग्राम प्रधान शेर सिंह उसके बेटे श्रवण व राधेश्याम, नन्हे, जीतू, नरेश सहित 10-12 अज्ञात लोगों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। पुलिस ने महिला के पति, पूर्व ग्राम प्रधान और उसके बेटे को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि अन्य आरोपियो की तलाश की जा रही है।

बताया जाता है कि महिला गांव के ही एक युवक धर्मेन्द्र लोधी के साथ अपनी मर्जी से चली गई थी। दोनों के कथित प्रेम संबंधों की बात सामने आ रही है। इसके बाद उनकी ढूंढ मची। बाद में दोनों को धर्मेन्द्र के मौसा के घर से ढूंढ निकाला गया। पति शौदान ने खानदान की इज्जत खराब करने और गांव के कुछ स्वयंभू समाज के ठेकेदारों ने गांव की बदनामी का आरोप लगाया। इसके बाद पंचायत बैठ गई। जिसमें महिला को तालिबानी सजा देने का फैसला किया गया। पीटने का हक पंचों ने उसके पति को दिया। फैसला पंचायत का था इसलिए किसी ने भी महिला को नहीं बचाया। एक-दो लोगों ने बचाने की कोशिश भी की, तो उन्हें धमकाकर भगा दिया गया। दर्ज रिपोर्ट में महिला ने बताया है कि मकान के अंदर लेकर जाकर उसके साथ अश्लील हरकतें भी की गईं।

 

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।