ताज़ा खबर :
prev next

जानिए, हिचकी क्यों आती है और उसे कैसे रोका जाये..

नई दिल्ली। भारत में हिचकी से कई बेतुके टोटके जुड़े हुए हैं जैसे आपको हिचकी आ रही है तो कोई याद कर रहा होगा। सोचो कौन याद कर रहा है। सही नाम सोच लेने पर हिचकी रुक जाएगी। इसी तरह किसी को हिचकी चल रही है तो शुभचिंतक साथ वाला एकदम से कोई शॉक करने वाली बात कह देगा, इस मान्यता की वजह से कि अचानक ऐसा कर देने से हिचकी रुक जाएगी।

यह कितना सही है कितना गलत यह तो पता नहीं, पर हां पीड़ित का ध्यान बंटाने के लिए खोजे गए पारंपरिक उपाय ठीक है। पर अच्छा हो कि हिचकी के पीछे का साइंस थोड़ा समझ लिया जाए और फिर उसके उपाय किए जाए।
रोज हम सांस लेते हैं और फेफडों में हवा जाती और वहां से आती रहती है। इसके साथ ही वह पर्दा भी हिलता है जो छाती और पेट के बीच में है। मगर कभी-कभी इस प्रवाह की लय गड़बड़ा जाती है इससे डायफ्रॉम फड़कने लगता है और हिचकी चलती है।
इस फड़कन को काबू करके हवा का प्रवाह सहज करने के कई उपाय हैं। जैसे ठंडा पानी पीना, शकर निगलना, कुछ सेकंड के लिए सांस रोकना, कुचली हुई बर्फ निगलना, गुब्बारे फुलाना आदि। इनमें से किसी भी एक विधि से हिचकी में आराम मिल जाता है।
जल्दी-जल्दी भोजन निगलने, अधिक मिर्च वाला खाना खाने, शराब पीने आदि से हिचकी आ सकती है। मगर यदि यह किसी भी सामान्य उपाय से न रुक रही हो, तब डॉक्टर से राय कर लेना ही ठीक है।
 
हिचकी आने पर : लगातार हिचकी आ रही हो तो दोनों कानों में उंगली डालकर सांस को थोड़ी देर के लिए रोक लें, हिचकी आना एकदम बंद हो जाएगी।
हिचकी चलती हो तो 1-2 चम्मच ताजा शुद्ध घी, गरम कर सेवन करें।
हिचकी आने पर तुलसी व शकर खाकर पानी पीने से लाभ होगा।

हमारा गाज़ियाबाद के एंड्राइड ऐप के लिए आप यहाँ क्लिक कर सकते हैंआप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।