ताज़ा खबर :
prev next

अतिक्रमण – वोट बैंक बचाने की कवायद में अतिक्रमणकारियों का साथ दे रहे हैं सांसद और विधायक

गाज़ियाबाद | व्यापारियों द्वारा किए गए अतिक्रमण की वजह से जाम और गंदगी की समस्या झेल रहे चौपला बाजार के दुकानदारों को अपना अतिक्रमण हटाने के लिए एक सप्ताह की मोहलत मिल गई है। इस एक सप्ताह के दौरान दुकानदार खुद ही नालों के ऊपर किया गया अतिक्रमण हटा लेंगे जिसकी समीक्षा डीएम रितु माहेश्वरी खुद करेंगी। जिला प्रशासन द्वारा आगे की जाने वाली कार्यवाही का फैसला डीएम और व्यापारियों की सप्ताह अंत में होने वाली बैठक के बाद ही होगा।

बता दें कि पिछले कई दिनों से शहर में प्रशासन और नगर निगम की ओर से लाल पट्टी खिंचवाई जा रही है। अधिकारियों का कहना है कि नाले पर किसी प्रकार का अतिक्रमण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। लाल पट्टी खींचने के बाद नगर निगम की टीम नालों से अतिक्रमण हटाने का काम कर रही है। ऐसे में बड़ी संख्या में दुकानों को तोड़ा जा रहा है। इसको लेकर व्यापारियों में काफी रोष भी है। दिल्ली गेट बाजार में शुक्रवार को लाल पट्टी खींचने के काम शुरू किया गया। यहां लाल पट्टी दुकानों के भीतर तक खींच दी गई। इससे दुकानदारों की नींद हराम हो गई। कई दुकानदारों की तो पूरी दुकान ही नालों पर बनी पाई गई। दुकानदारों ने इसका विरोध शुरू किया। शुक्रवार को चौपला मंदिर के सभी चारों बाजार बंद कर व्यापारी सड़कों पर उतर आए।
शनिवार को सभी व्यापारी सांसद वीके सिंह से मिले। सांसद ने भी वोट बैंक खोने के डर से जिला प्रशासन द्वारा चलाये जा रहे अतिक्रमण विरोधी अभियान का साथ देने के बजाए व्यापारियों का साथ देने में भी भलाई समझी और उन्हें आश्वासन दिया कि वह बाजार में तोड़फोड़ नहीं होने देंगे।

वहीं रविवार सुबह सभी व्यापारी उत्तर प्रदेश सरकार में राज्य मंत्री और विधायक अतुल गर्ग से भी मिले। अतुल गर्ग ने भी वोट बैंक बचाने के लालच में जिलाधिकारी पर अपना रौब गालिब करना चाहा मगर जिलाधिकारी की तर्क सम्मत बातों के आगे उनकी एक न चली। जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी ने अपने हाथ कानून से बंधे होने की दुहाई देकर कहा कि व्यापारियों को ज्यादा से ज्यादा एक सप्ताह कि मोहलत मिल सकती है, तब तक व्यापारी अपने स्तर से नाले से जिताना अतिक्रमण हटा सकते हैं हटा लें। उसके बाद प्रशासन अपने स्तर पर कार्यवाही शुरू कर देगा। वहीं प्रशासन और निगम के जिन अधिकारियों के कार्यकाल में अतिक्रमण हुआ है, उनके खिलाफ की जाने वाली कार्यवाही पर जिलाधिकारी भी खामोश रहीं।

बता दें कि चौपला बाजार में सिहानी गेट, दिल्ली गेट, डासना गेट ओर अग्रसेन बाजार आते हैं। इन बाजारों में नाले पर अतिक्रमण इस कदर है कि नाले दिखाई ही नहीं देते। चौपाला बाजार में से गुजरने वाले नाला कितना बड़ा है यह आज तक किसी को पता नहीं था। प्रशासन के एक आदेश के बाद अब व्यापारी खुद नाले से अतिक्रमण हटाने लगे हैं जिससे अपना अस्तित्व खो चुका यह नाला अब दिखाई देने लगा है।

क्या आपका जल्दी पहुँचना इतना जरूरी है? जरा सोचिए !

हमारा न्यूज़ चैनल सबस्क्राइब करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
Follow us on Facebook http://facebook.com/HamaraGhaziabad
Follow us on Twitter http://twitter.com/HamaraGhaziabad
Subscribe to our News Channel