ताज़ा खबर :
prev next

दिव्यांगो के साथ बदसलूकी के लिए प्रधानमंत्री से ट्विटर पर शिकायत

हरियाणा। विकलांगों को अब दिव्यांग कहा जाने लगा है, लेकिन इस सम्मानजनक संबोधन से उनकी समस्याओं में कोई कमी नहीं आई है। इसका ताजा उदाहरण पंचकूला के ताऊ देवीलाल खेल परिसर में देखने को मिला। यहां आयोजित 18वीं नेशनल पैरा एथलेटिक चैंपियनशिप में देश के अलग-अलग राज्यों से हिस्सा लेने पहुंचे सैकड़ों दिव्यांग खिलाड़ियों के साथ अव्यवहार हो रहा है।

रविवार को दिल्ली से पैरा एथलेटिक मीट में हिस्सा लेने पहुंची इंटरनेशनल दिव्यांग खिलाड़ी सुवर्णा राज ने इस बात का खुलासा किया। सुवर्णा ने बताया कि वह दिल्ली से इस इवेंट में हिस्सा लेने के लिए शनिवार को दिन में तीन बजे पंचकूला पहुंच गईं थी, लेकिन जहां उनके ठहरने की व्यवस्था की गई है, वहां के शौचालय का गेट इतना छोटा है कि वहां कोई भी दिव्यांग खिलाड़ी शौचालय के अंदर व्हील चेयर लेकर नहीं जा सकता।

सुवर्णा ने बताया कि इस वजह से दोपहर तीन बजे से लेकर रात बारह बजे तक वह शौचालय नहीं जा पाईं। देर रात सड़क पर उतरी तो आयोजकों ने मामले को दबाने के लिए पंचकूला सेक्टर-14 में शनिवार की रात को ही व्यवस्था करवाई, तब जाकर उन्हें कुछ राहत मिली। इसके बाद दिव्यांग सुवर्णा राज ने रविवार की सुबह पीएम को ट्वीट कर अपनी समस्याओं के बारे में जानकारी दी।

उनका कहना है कि इतने बड़े आयोजन में सिर्फ वो ही नहीं बल्कि सैकड़ों खिलाड़ी भी परेशान हो रहे हैं। सुवर्णा राज ने ‘राइट्स ऑफ पर्सन विद डिसेबिलिटी बिल – 2016’ का उदाहरण देते हुए कहा कि दिव्यांग खिलाड़ियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जाता है और उनको जमीन पर रेंगने वाले कीड़े-मकोड़ों की तरह क्यों देखा जाता है। इन खिलाड़ियों के लिए ना तो पर्याप्त शौचालय हैं और ना ही रहने की सुविधाएं नियमों के अनुकूल हैं।

ट्रेन में दिव्यांग कोटे में अपर बर्थ मिलने का किया था विरोध
दिल्ली की शाहदरा निवासी इंटरनेशनल पैरा एथलीट सुवर्णा राज ने इससे पहले भी ट्रेन में दिव्यांग कोटे पर बर्थ नहीं मिलने पर आवाज उठा चुकी हैं। 2017 में रेल सफर के दौरान उन्हें अपर बर्थ अलॉट कर दिया गया था। जिस वजह से उन्हें पूरी रात ट्रेन के फर्श पर बैठकर सफर करना पड़ा। उस दौरान सुवर्णा ने टीटी से लेकर रेल मंत्री तक को गुहार लगाई थी लेकिन उनकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया। सुवर्णा की मांग भी जायज थी कि एक व्हील चेयर पर बैठी दिव्यांग महिला ट्रेन के अपर बर्थ पर कैसे सफर कर सकती है। जबकि सुवर्णा ने दिव्यांग कोटे में बर्थ बुक किया था। रेल मंत्री को ट्वीट के बाद जांच के आदेश दिए गए थे।

संज्ञान में आते ही होगा समस्या का समाधान: सीएम
18वीं नेशनल पैरा एथलेटिक चैंपियनशिप में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे हरियाणा के मुख्यमंत्री से पूछा गया कि एक दिव्यांग खिलाड़ी सुवर्णा राज ने पीएम को ट्वीट कर शिकायत दी है कि पैरा एथलेटिक मीट में खिलाड़ियों को जो सुविधाएं मिलनी चाहिए वो नहीं मिल रही हैं, इस पर सीएम ने कहा कि उन्हें इस संबंध में ऐसी कोई शिकायत नहीं मिली है, अगर ये मामला उनके संज्ञान में आता है तो ऐसी समस्या का समाधान तत्काल किया जाएगा।

राव इंद्रजीत सिंह ने क्या कहा
पैरा ओलंपिक कमेटी ऑफ इंडिया व पैरा स्पोर्ट्स एसोसिएशन ऑफ हरियाणा के प्रधान एवं योजना मंत्रालय व राज्यमंत्री, रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय भारत सरकार राव इंद्रजीत सिंह से पूछा गया कि क्या खामियों को लेकर दिव्यांग खिलाड़ी पीएम को ट्वीट किया है, तो उन्होंने बताया कि इस संबंध में उन्हें कोई शिकायत अभी नहीं मिली है। अगर ऐसी कोई शिकायत मिलती है तो उसका तुरंत समाधान करेंगे।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।