ताज़ा खबर :
prev next

दहेज़ के लिए हत्या करने के आरोप में पति को 7 वर्ष की सज़ा

गाज़ियाबाद। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-1 शशि भूषण पांडेय की अदालत ने आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में पति को शुक्रवार को सात साल कैद की सजा सुनाई है। मामला विजयनगर थानाक्षेत्र में वर्ष 2012 का है। अदालत ने आरोपी पर पांच हजार रुपये जुर्माना भी लगाया है।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता अनिल शर्मा व दीपक माकिन ने बताया कि 23 फरवरी 2012 को आरती की शादी विजयनगर के रहने वाले बॉबी से हुई थी। शादी के बाद से ही पति व ससुराल वाले दहेज की मांग को लेकर उसे प्रताड़ित करते थे। आरोप है कि मांग पूरी न होने पर जुलाई 2012 में पति बॉबी, उसकी बहन सरला व बहनोई लक्ष्मण ने आरती की हत्या कर फंदे से लटका दिया।

मामले में मृतका के परिजनों ने उपरोक्त तीनों के खिलाफ दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज कराया। साक्ष्यों के अभाव में अदालत पूर्व में सरला व लक्ष्मण को बरी करने के आदेश दे चुकी है। सहायक जिला शासकीय अधिवक्ताओं के मुताबिक सुनवाई के दौरान पुलिस बॉबी के खिलाफ भी दहेज हत्या के संबंध में पर्याप्त साक्ष्य पेश नहीं सकी, जो साक्ष्य पेश किए गए उसके आधार पर अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-1 शशि भूषण पांडेय की अदालत ने बॉबी को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में दोषी ठहराते हुए सात साल कैद की सजा सुनाते हुए पांच हजार रुपये जुर्माना लगाया।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।